जमशेदपुर, जासं। झारखंड के कोल्हान के सरायकेला-खरसावां जिले के नीमडीह में ग्रामीणों ने बीडीओ और थानेदार समेत कई अन्य पुलिसकर्मियों की पिटाई कर दी। यह घटना शुक्रवार को जिले के नीमडीह थाना क्षेत्र के बामनी गांव में हुई है, जहां भोक्ता मेला का आयोजन किया गया था। मेले में स्थानीय ग्रामीणों की काफी भीड़ लगी हुई थी।

इसकी सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस पहुंच कर स्थानीय लोगों को मेला को बंद करने को कहा। इसके बाद ग्रामीण और पुलिस के बीच विवाद शुरू हो गया। इसी बीच आक्रोशित ग्रामीणों ने बीडीओ और थाना प्रभारी समेत अन्य पुलिसकर्मियों की दौड़ा-दौड़ा कर पिटाई की।  गौरतलब है कि बामनी गांव में मेला का आयोजन किया गया था। मेले में बड़ी संख्या में ग्रामीण जुटे थे। सकी सूचना मिलने पर नीमडीह के बीडीओ मुकेश कुमार और नीमडीह थाना की पुलिस वहां पहुंचे और ग्रामीणों से मेला को बंद करने को कहा गया। इससे ग्रामीण आक्रोशित हो गए और पूरे गांव के लोगों ने पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट शुरू कर दी। पिटाई होता देख पुलिसकर्मी किसी तरह मौके से निकलने में सफल रहे

थाना प्रभारी को ग्रामीणों ने पीटकर किया घायल

ग्रामीणों के द्वारा किए गए मारपीट की घटना में नीमडीह थाना प्रभारी मो अली अकबर और एक पुलिस पदाधिकारी को ग्रामीणों ने पीट कर घायल कर दिया। सभी घायल नीमडीह स्वास्थ्य केंद्र में इलाज चल रहा है। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस के अधिकारी पहुंच कर मारपीट की घटना में शामिल कई लोगों को गिरफ्तार किया है।पुलिस आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है और मामले की जांच शुरू कर सारे दोषियों के खिलाफ एफआइआर कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

ये कहते एसडीपीआे

ग्रामीणों ने मेला बंद कराने गए बीडीओ को घेर लिया था। इसकी सूचना बीडीओ ने ग्रामीणों से घिरने पर इसकी सूचना पुलिस को दी जिसके उपरांत थाना प्रभारी के नेतृत्व में पुलिसकर्मी पहुंचे। बीडीओ को छुड़ाकर ले जाने के दौरान जानलेवा हमला कर दिया गया। पत्थरबाजी की गई। मामले में नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। आजसू नेता हरेलाल महतो समेत 40 के खिलाफ नीमडीह थाना में सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, सरकारी कार्य में बाधा डालने, जानलेवा हमला किए जाने और अन्य धारा के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

-संजय कुमार सिंह, चांडिल एसडीपीओ

बिना पुलिस के गए थे बीडीओ इलाके में

नीमडीह थाना क्षेत्र बामनी गांव में मेला का आयोजन किया गया था। मेले में बड़ी संख्या में ग्रामीण जुटे थे। सूचना पर नीमडीह के बीडीओ मुकेश कुमार कुछ अधीनस्थ अधिकारियों के साथ पहुंचे थे। ग्रामीणों से मेला को बंद करने को कहा गया। इससे ग्रामीण आक्रोशित हो गए। इसके बाद बवाल बढ़ता चला गया। बीडीओ बिना फोर्स के साथ इलाके में गए थे जिसके कारण ग्रामीणों ने बंधक बना लिया।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021