जमशेदपुर, जेएनएन। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के बेटे ललित दास की शादी का रिसेप्शन 10 मार्च को जमशेदपुर में होगा। इसमें 20 हजार मेहमान भाग लेंगे। बड़ी संख्या में वीआइपी मूवमेंट की वजह से जमशेदपुर की यातायात व्यवस्था में इस दिन बदलाव किए जाएंगे। सुबह छह बजे से रात 12 बजे तक जमशेदपुर शहर में भारी वाहनों की नो इंट्री रहेगी। 

रिसेप्शन मुख्यमंत्री के जमशेदपुर स्थित आवास के समीप ही एग्रिको मैदान और क्लब हाउस में होगा। एग्रिको मैदान में तैयारी शुरू भी हो गई है। लिहाजा जिला प्रशासन ने इस इलाके में यातायात की व्यवस्था में बदलाव का नोटिस जारी कर दिया है। साकची से स्टेट माइल रोड होकर गोलमुरी आनेवाले तीन नंबर गोलचक्कर से दाहिने मुड़कर सीतारामडेरा थाना होकर जाएंगे। इसी तरह लिट्टी चौक से आनेवाले 10 नंबर बस्ती आकाशदीप प्लाजा होकर या तीन नंबर गोलचक्कर सीतारामडेरा थाना होकर गोलमुरी जाएंगे। गोलमुरी से सिदगोड़ा जानेवाले आकाशदीप प्लाजा 10 नंबर बस्ती होकर जाएंगे। गोलमुरी से लिट्टी चौक भालूबासा जाने के लिए सीतारामडेरा, तीन नंबर गोलचक्कर की तरफ से जाएंगे। 

यहां होगी पार्किंग

1 गोलमुरी के तरफ से आनेवाले - पुलिस स्कूल मैदान जागर्स पार्क मैदान

2 लिट्टी चौक एवं सिदगोड़ा से आनेवाले - एग्रिको मैदान

3 साकची से आनेवाले - डीएलसीसी मैदान

4 वीवीआइपी - एग्रिको मैदान के सामने

8 मार्च को रायपुर में होगी शादी

मुख्यमंत्री रघुवर दास के बेटे ललित दास की 27 जनवरी को सगाई हुई थी। सगाई समारोह का आयोजन टाटा-रांची राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित होटल वेव इंटरनेशनल में किया गया था। शादी छत्तीसगढ़ में हो रही है, जहां के रघुवर दास मूल निवासी हैं। दास परिवार ने जिस लड़की को बहू के लिए चुना है, वह रायपुर से है और उसका नाम पूर्णिमा कुमारी है। ललित व पूर्णिमा की शादी आठ मार्च को रायपुर में होगी। सात की शाम को जमशेदपुर से ट्रेन से रवाना होंगे। दस मार्च को जमशेदपुर, 12 मार्च को रांची, 14 को दिल्ली में प्रीतिभोज है।

मेसरा से ही है पढ़ाई

ललित दास ने बीआइटी मेसरा से पढ़ाई की है और टाटा स्टील में एचआरएम विभाग में असिस्टेंट मैनेजर हैं। वे सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। वे सामाजिक संस्था लोक समर्पण के संयोजक हैं। ललित रघुवर दास की दो संतानों में छोटे हैं। उनकी एक बहन है, जिसकी शादी हो चुकी है। बहन रेणु की शादी वर्ष 2007 में दुर्ग के पद्मनाभपुर में हुई थी। इनके दामाद यशपाल रायगढ़ में एक कंपनी में इंजीनियर हैं। 

 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan