जागरण संवाददाता, गोड्डा : जिले के सभी नौ प्रखंडों के बीडीओ को सामाजिक अंकेक्षण के दौरान मिली त्रुटियों का निराकरण नहीं करने और योजना मद की राशि की हेराफेरी के खिलाफ उप विकास आयुक्त चंदन कुमार ने कार्रवाई तेज कर दी है। तत्काल जिले के सभी नौ बीडीओ को शोकाज किया गया है। डीआरपी, बीआरपी, मुखिया, रोजगार सेवक, कनीय अभियंता और वेंडरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश संबंधित बीडीओ को दिया गया है।

डीडीसी ने मनरेगा योजनाओं के सामाजिक अंकेक्षण रिपोर्ट की समीक्षा के बाद जिले के चार मुखियों का वित्तीय अधिकार जब्त करने के भी संकेत दिए हैं। डीडीसी की ओर से जारी पत्र के अनुसार बसंतराय के बीडीओ अशोक कुमार भारती पर सामाजिक अंकेक्षण की 223 शिकायतों को लंबित रखने का आरोप है। दो दिनों के अंदर बीडीओ को स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया गया है। संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर प्रति शिकायत 500 रुपये का जुर्माना के साथ 223 शिकायतों के लिए 1,11,500 रुपये मासिक वेतन से वसूलने की कार्रवाई की जाएगी। इसी तरह बोआरीजोर बीडीओ धीरज प्रकाश पर 314 शिकायतों को लंबित रखने का आरोप है। इनसे 15700 रुपये जुर्माना का वसूलने का अल्टीमेटम दिया गया है। गोड्डा बीडीओ चंदन सिंह को भी शोकाज किया गया है। इनके पास 638 शिकायतें लंबित हैं। इनपर 3,19,000 रुपये जुर्माना वसूलने का नोटिस दिया गया है। महागामा बीडीओ प्रवीण चौधरी पर शोकाज के साथ 511 लंबित शिकायतों के लिए 2,55,500 रुपये जुर्माना मासिक वेतन से वसूलने की कार्रवाई की जाएगी। जुर्माना की कार्रवाई सामाजिक अंकेक्षण की रिपोर्ट पर प्रखंड स्तर से कार्रवाई नहीं होने पर सात दिनों के अंदर बीडीओ प्रति शिकायत 500 रुपये जुर्माना भरने के दोषी होंगे, जबकि मेहरमा बीडीओ कुमार अभिषेक सिंह पर भी मनरेगा अंतर्गत सामाजिक अंकेक्षण के दौरान पाई गई त्रुटियों को ससमय निराकरण नहीं करने के लिए शोकाज किया गया है। मेहरमा में 336 शिकायतों के लिए 168000 रुपये का जुर्माना का प्रावधान किया गया है। इस कड़ी में पथरगामा बीडीओ अमलजी भी शामिल हैं। उनपर स्पष्टीकरण सहित 403 शिकायतों को लंबित रखने के लिए 201500 रुपये जुर्माना प्रस्तावित किया गया है। पोड़ैयाहाट बीडीओ महेश्वरी प्रसाद यादव पर शोकाज सहित 390 शिकायतों के लिए 195000 रुपये जुर्माना प्रस्तावित किया गया है। सुंदरपहाड़ी बीडीओ विजय प्रकाश मरांडी पर भी 207 शिकायतें लंबित होने पर शोकाज सहित 1,03500 रुपये का जुर्माना प्रस्तावित है। कार्रवाई की जद में ठाकुरगंगटी बीडीओ राजीव कुमार भी आए हैं। उन्हें शोकाज किया गया है। 363 शिकायतों के लिए 1,81,500 रुपये का जुर्माना उनके मासिक वेतन से वसूलने की कार्रवाई के लिए नोटिस दिया गया है। इसके अतिरिक्त बसंतराय की चार पंचायतों के मुखिया, पंचायत सचिव, रोजगार सेवक और मेट के विरुद्ध थाना में प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश बसंतराय बीडीओ को दिया गया है।

गोड्डा के मनरेगा डीआरपी और बसंतराय के बीआरपी पर मनरेगा योजनाओं में फर्जीवाड़ा के लिए शोकाज और जुर्माना सहित विभागीय कार्रवाई प्रस्तावित है। डीडीसी ने बसंतराय की बेलडीहा पंचायत के कनीय अभियंता पर गड़बड़ी के आरोप में शोकाज सहित सेवा मुक्त और प्राथमिकी दर्ज करने का अल्टीमेटम दिया है। बसंतराय के ही मनरेगा वेंडर से स्पष्टीकरण करने का निर्देश बीडीओ को देते हुए कानूनी कार्रवाई का निर्देश बीडीओ को दिया है।

----- जिले की 201 पंचायतों में एक वित्तीय वर्ष में औसतन 150 करोड़ रुपये मनरेगा योजनाओं में व्यय किया जा रहा है। सामाजिक अंकेक्षण के दौरान प्रखंडों से बड़ी संख्या में शिकायतें मिली थी। निर्देश के बाद भी संबंधित बीडीओ की ओर से त्रुटियों का निराकरण नहीं किया गया। जिले में मनरेगा मद की लूट खसोट बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अगले एक माह तक सभी लंबित शिकायतों का निष्पादन कर दोषियों पर कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी।

- चंदन कुमार, डीडीसी, गोड्डा

Edited By: Jagran