जागरण संवाददाता, गोड्डा : सीबीएसई की ओर से घोषित 10वीं बोर्ड के परीक्षा परिणाम पर आपत्ति जताते हुए बुधवार की शाम सैकड़ों की संख्या में जिला मुख्यालय के विभिन्न स्कूलों के छात्रों ने शहर के कारगिल चौक पर मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन किया और सीबीएसई बोर्ड से न्याय की मांग की। करीब तीन घंटे तक कारगिल चौक पर तीन ओर से वाहनों की लंबी कतार लग गई। सूचना पाकर सदर बीडीओ चंदन कुमार सिंह घटना स्थल पहुंचे और आक्रोशित छात्रों से बात की और उन्हें समझा बुझा कर आश्वस्त कराया कि प्रशासन उनकी मांगों को सीबीएसई बोर्ड तक पहुंचाएगा। इस आश्वासन के बाद छात्र शांत हुए। इसके बाद कारगिल चौक से तीन ओर वाहनों लंबी कतार लगने से क्रमश: भागलपुर रोड, पीरपैंती रोड और हंसडीहा रोड में जाम की स्थिति बन गई। नगर थाना की पुलिस को काफी मशक्कत कर जाम हटाना पड़ा। बता दें कि इस बार कोरोना के कारण सीबीएसई की ओर से विषयवार मानक तय कर परीक्षा का परिणाम दिया गया है। इसमें पिछले वर्ष के परीक्षा परिणाम के साथ साथ विद्यालयों की ओर से ली गई इकाई जांच परीक्षा, अर्धवार्षिक और प्री बोर्ड परीक्षा के परिणाम को वेटेज देते हुए परीक्षा कमेटी की निगरानी में सीबीएसई ने रिजल्ट जारी किया है।

हालांकि इस मामले में सीबीएसई में छात्रों का विकल्प भी दे रखा है कि जो पुन: परीक्षा देना चाहते हैं, उनके लिए विकल्प खुले हैं। इधर आंदोलन कर रहे छात्रों ने बताया कि सीबीएसई 10वीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम में वैसे छात्रों को कम अंक दिये गए हैं। जिनके पूर्व के रिजल्ट बेहतर थे। वहीं कई छात्रों को फेल भी कर दिया गयाहै। छात्रों का कहना हे कि जब परीक्षा ही नही ली गयी तो फेल करने का निर्णय अव्यवहारिक है। वहीं कुछ एक छात्रों को मानक से अधिक अंक मिलने पर भी दूसरे छात्रों में नाराजगी है। छात्रों ने बताया कि जो छात्रा औसत दर्जे के थे, उन्हे रिजल्ट में टापर का अंक दे दिया गया है। वहीं जो छात्र मेधावी थे उन्हे औसत अंक देकर उनकी प्रतिभा को कुंठित करने का प्रयास किया गया है। जिसके लिए विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।

Edited By: Jagran