हीरोडीह/झारखंडधाम (गिरिडीह) : काम दिलाने के नाम पर बाहर ले जाई जा रही चार नाबालिग लड़कियों को दलालों के चंगुल से मंगलवार को मुक्त कराया गया। चाइल्ड लाइन, तिसरी की टीम को मिली सूचना के आधार पर यह कार्रवाई की गई। सूचना पर हीरोडीह थाना प्रभारी राधेश्याम पांडेय ने बैरिकेड लगाकर वाहन जांच की। जांच के दौरान कोडरमा जाने वाली बस से चार नाबालिग लड़कियों सहित एक वृद्ध महिला व इस गिरोह में शामिल एक युवक को पुलिस अपने कब्जे में लेकर पूछताछ के लिए थाना ले गई।

पूछताछ के दौरान हिरासत में लिए गए लोगों ने बताया कि वे लोग लड़कियों को काम और अच्छा वेतन दिलाने की बात कह दिल्ली ले जा रहे थे। इस बाल तस्कर गिरोह के मुख्य मास्टर माइंड तिसरी थाना क्षेत्र के हीरो राय है जो अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। मास्टर माइंड हीरो राय के सहयोगी के रूप में काम करने वाला विकास कुमार राय दोनों चाचा-भतीजा हैं। फिलहाल विकास पुलिस गिरफ्त में है।

सूत्रों के अनुसार मास्टर माइंड हीरो राय गरीब एवं असहाय बच्चियों को बहला फुसलाकर काम दिलाने का प्रलोभन देकर दिल्ली के किसी कोठे में ले जाकर छोड़ देता है। इससे उसे अच्छी आमदनी हो जाती है। चाइल्ड लाइन के सवेरा फाउंडेशन तिसरी की ओर से दिए गए आवेदन के आधार पर हीरोडीह थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस ने पूछताछ के बाद बरामद बच्चियों तथा वृद्ध महिला को चाइल्ड लाइन गिरिडीह भेज दिया है, जबकि गिरोह में शामिल विकास कुमार को अपनी हिरासत में रखा है।

खोरीमहुआ एसडीपीओ मुकेश कुमार महतो ने बताया कि किसी गिरोह द्वारा बच्चियों को बहला फुसलाकर काम दिलाने का प्रलोभन देकर उन्हें दिल्ली ले जाने की सूचना चाइल्ड लाइन तिसरी को मिली थी। टीम ने हीरोडीह थाना को सूचित किया। सूचना के आधार पर एक बस से चार बच्चियों सहित एक वृद्ध महिला एवं इस गिरोह में संलिप्त एक युवक गिरफ्तार किया गया है। इस गिरोह में जो भी लोग संलिप्त है उन्हें किसी भी हाल में नहीं बख्शा नहीं जाएगा।

चाइल्ड लाइन के पदाधिकारी ने बताया कि छह महीना में अभी तक कुल 17 बच्चियों को रेस्क्यू कर बरामद किया गया है। मंगलवार को कुल 17 बच्चियों को हीरो राय का गिरोह दिल्ली ले जा रहा था, जिनमें पुलिस के सहयोग से चार बच्चियों को बरामद कर लिया गया है।

Edited By: Jagran