गावां (गिरिडीह): गावां प्रखंड अंतर्गत पिहरा पंचायत के धरहरवा से अनाथ हुए छह बच्चों को सोमवार को चाइल्ड लाइन के अधिकारियों के सहयोग से सीडब्ल्यूसी (बाल कल्याण समिति) की निगरानी में भरण पोषण को गिरिडीह भेज दिया गया।

बता दें कि 23 जून को धरहरवा निवासी कृष्णा चौधरी की पत्नी मुन्नी देवी की हत्या पति ने ही कर दी थी। उसके बाद कृष्णा चौधरी को पत्नी की हत्या के आरोप में जेल भेज दिया गया था। मां की मौत होने और पिता के जेल जाने के बाद छह छोटे छोटे बच्चे पूर्णत: अनाथ हो गए। सीडब्लू सी के अधिकारी जयराम ने बताया कि जब इन बच्चों के पिता जेल से बाहर आएंगे और और इन बच्चों को अपने साथ घर ले जाना चाहेंगे तो उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी के साथ इन बच्चों को घर भेज दिया जाएगा।

डीलर की विधवा को दिया गया आर्थिक सहयोग

सरिया: परसिया पंचायत अंतर्गत जन वितरण प्रणाली दुकानदार श्याम लाल मांझी की मौत एक पखवारा पूर्व हो गई थी। उसकी विधवा भक्तिन मंझियाइन तथा इकलौती पुत्री को सांत्वना देने डीलर संघ का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को उनके पैतृक आवास पहुंचा। वहां डीलर की मौत को लेकर लोगों ने संवेदना व्यक्त की। उनकी पत्नी व इकलौती पुत्री को ढाढ़स बंधाया। संघ की ओर से उन्हें दो हजार रुपये की नकद राशि का सहयोग किया। साथ ही प्रति माह 50 किलोग्राम चावल तथा 25 किलोग्राम गेहूं देने की घोषणा की गई। मौके पर संघ के सचिव विनोद कुमार सिंह, सुरेश दास, कल्लू सिंह, प्रहलाद सिंह आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran