दीपक, गढ़वा:

97.6 प्रतिशत अंक लाकर जिला में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाला बीपी डीएवी पब्लिक स्कूल का छात्र कुणाल गौरव गढ़वा शहर के वार्ड नंबर 18 टंडवा का रहने वाला है। कुणाल, विरेंद्र कुमार तथा कंचन देवी का पुत्र है। है कुणाल के पिता विरेंद्र कुमार सब्जी विक्रेता हैं। वीरेंद्र कुमार तथा कंचन देवी अपने पुत्र की इस उपलब्धि से गदगद हैं। - पेशे से सब्जी विक्रेता हैं कुणाल के पिता:

कुणाल गौरव के पिता विरेंद्र कुमार सब्जी बेचने का काम करते हैं। अपने लाडले की इस उपलब्धि पर उन्होंने कहा कि मुझे पढ़ाई लिखाई की तो ज्यादा कुछ तो समझ में नहीं आता पर इतना समझ में आता है कि अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा देनी है तथा इसके नियमित मैं अपने दायित्व का निर्वहन करते आया हूं। मुझे इस बात की बहुत प्रसन्नता है कि मेरा पुत्र कुणाल गौरव मेरी उम्मीदों पर खरा उतरा। उन्होंने इस उपलब्धि का श्रेय कुणाल गौरव के साथ साथ बीपी डीएवी पब्लिक स्कूल के शिक्षकों को भी दिया उन्होंने कहा कि मेरा पुत्र कहीं भी अलग से किसी भी विषय का कोई भी ट्यूशन नही किया है। उन्होंने बताया कि सिर्फ विद्यालय की पढ़ाई और अपने मेहनत के दम पर बच्चे ने यह उपलब्धि हासिल की है।

- बिना ट्यूशन कोचिग के प्राप्त की सफलता: जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाला छात्र कुणाल गौरव ने बताया कि वह इसके बाद 12वीं की पढ़ाई के साथ-साथ आईआईटी की तैयारी करना चाहता है उसने कहा कि वो विद्यालय के पढ़ाई के अतिरिक्त दो-तीन घंटे की पढ़ाई करता था। उसने कहा कि बीपीडीएवी के प्राचार्य अजय कुमार चौबेजी के साथ साथ सभी शिक्षकों का मार्ग दर्शन प्राप्त होता रहा। साथ ही मेरी मां तथा मेरे पिता जी हमेशा मुझे बेहतर करने के लिए प्रेरित करते रहे।

Edited By: Jagran