जागरण संवाददाता, दुमका: बच्चों की सुरक्षा के लिए मंगलवार को बाल कल्याण, संरक्षण पदाधिकारी और बाल गृह प्रभारी के साथ बाल कल्याण समिति परिसर में बैठक की। चाइल्डलाइन के केंद्र समन्वयक मधुसूदन सिंह ने बताया कि टोल फ्री 1098 पर लगातार आ रही बाल विवाह, मजदूरी एवं बाल उत्पीड़न जैसे मामलों पर प्रशासन के साथ मिल कर काम किया जा रहा है। वैसे बच्चे जो पढ़ने के लिए इच्छुक होते हैं, उन्हें छात्रवृत्ति से जोड़ने का प्रयास किया जाता है। कोई भी बच्चों की सहायता करने के लिए टोल फ्री नंबर पर जानकारी दे सकता है। उसका नाम गुप्त रखा जाएगा।

बाल संरक्षण पदाधिकारी प्रकाश चंद्रा ने बताया कि बच्चों की सुरक्षा के लिए हर समय तैयार हैं। ऐसे बच्चों को चिह्नित करें, जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना महामारी से हुई है और वो असहाय हो गए हैं। ऐसे बच्चों को चिन्हित कर तुरंत सरकारी लाभ से जोड़ने का प्रयास जाएगा। बैठक में बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष मनोज कुमार साह ने बताया कि असहाय बच्चे के लिए 24 घंटे तत्पर हैं। इसमें चाइल्डलाइन की अहम जिम्मेवारी हैं। सदस्य सुमिता सिंह ने बताया कि बाल विवाह, तस्करी एवं बाल उत्पीड़न जैसे मामलों से निजात दिलाने के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी है।

बैठक में बाल गृह की प्रभारी काजल कुमारी, संजू कुमार, सुमित कुमार गुप्ता, दिव्यांशु शुक्ला, पीएलवी विकास प्रसाद साह, जीशान अली, शांतिलता हेंब्रोम, आशा कुमारी, सनातन मुर्मू, इब्नुल हसन, नीकू कुमार व अनिल कुमार साह मौजूद थे।

Edited By: Jagran