बोकारो, जेएनएन। झारखंड प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जामताड़ा के विधायक इरफान अंसारी द्वारा झारखंड प्रदेश भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष पूर्व मंत्री अमर बाउरी की तुलना दक्षिण भारतीय गुंडा से करने पर राजनीतिक माहाैल गर्म हो गया है। बाउरी ने अंसारी पर पलटवार करते हुए कहा है-दलितों के प्रति यह कांग्रेस की सोच है। कांग्रेस की सोच के सच को अंसारी ने सामने ला दिया है। साथ ही ट्वीट कर कहा है कि अगर 24 घंटे के अंदर अंसारी माफी नहीं मांगते हैं तो संविधान के दायरे में उनका दिमाग ठीक करेंगे। 

क्या है मामला

झारखंड के चाइबासा में एक समुदाय विशेष द्वारा दलित परिवारों के साथ मारपीट की घटना के विरोध में शुक्रवार को पूर्व मंत्री अमर बाउरी ने झारखंड के राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात की। उन्होंने राज्यपास को घटना से अवगत कराया और न्याय दिलाने की मांग की। इसे लेकर झारखंड प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष इरफान अंसारी भड़ गए। उन्होंने पूर्व मंत्री को साउथ इंडियन गुंडा कह डाला। अमर बाउरी दलितों का नकली हितैषी बनकर सामने आ रहे हैं। दिखने में साउथ इंडियन गुंडा लगता है। गुंडा कभी हैतिषी नहीं हो सकता है।

दलित लगता गुंडा, कल आदिवासी को कह सकता राक्षस

चंदनकियारी के विधायक और पूर्व मंत्री अमर कुमार बावरी ने जामताड़ा विधायक इरफान अंसारी द्वारा अपने को साउथ इंडियन गुंडा बताए जाने के मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। विधायक ने कहा है कि यदि इरफान 24 घंटे के अंदर माफी नहीं मांगते हैं तो दलितों के अधिकार को संरक्षित करने के लिए भारतीय संविधान में जो प्रावधान किए गए हैं उस उपचार के तहत उनको संस्कारित कर उनका दिमाग ठीक करेंगे। विधायक अमर बाउरी का कहना है कि जब दलित इरफान अंसारी को साउथ इंडियन गुंडा लगता है तो कल को वे आदिवासी मुख्यमंत्री को राक्षस कर सकते हैं l

इरफान कहीं से भी नहीं लगते मुल्तानी मुसलमान

बाउरी ने कहा है कि मुझे अपने दलित, हिंदू और झारखंड का मूल निवासी होने पर गर्व है। लेकिन इरफान अंसारी कहीं से भी मुल्तानी और पूर्व के मुसलमान नहीं लगते हैं। वे कन्वर्टेड मुसलमान और फ्रस्ट्रेटेड मुसलमान हैं। पूर्व मंत्री ने कहा है कि महादलित परिवार को विधायक के गुंडे उनकी जमीन से अलग किए हुए हैं। इसको वहां के प्रशासन का संरक्षण प्राप्त है। कितने दलित परिवार को घर से निकाला गया है। उन्हें अभी तक न्याय नहीं मिला। उल्टे विधायक के गुंडे उनका धर्मांतरण कराना चाहते हैं। उन्हें प्रशासन का संरक्षण प्राप्त है। ऐसी स्थिति में पूरे राज्य में इस तरह के प्रयास का विरोध करेंगे। दलित और महादलितों को टारगेट बनाया जा रहा है। उन्हें दबाव देकर मतांतरित करने का प्रयास किया जा रहा है। इसे सफल नहीं होने देंगे।

Edited By: Mritunjay