Move to Jagran APP

BJP के ढुलू महतो नहीं करेंगे धनबाद सीट के लिए दावा, कहा: पीएन सिंह नहीं लड़े चुनाव तो मेरी दावेदारी सबसे मजबूत

पीएन सिंह नहीं लड़ें चुनाव तो मेरी दावेदारी सबसे मजबूत है। यह बात बाघमारा के भाजपा विधायक ढुलू महतो ने दैनिक जागरण के साप्ताहिक कार्यक्रम प्रश्न पहर में की। इस दौरान उन्‍होंने मौजूदा सरकार पर कई मुद्दों को लेकर घेरा।

By Dileep Kumar SinhaEdited By: Arijita SenPublished: Thu, 25 May 2023 09:59 AM (IST)Updated: Thu, 25 May 2023 09:59 AM (IST)
भाजपा विधायक ढुलू महतो और सांसद पीएन सिंह की तस्‍वीर।

जागरण संवाददाता, धनबाद। बाघमारा के भाजपा विधायक ढुलू महतो ने कहा है कि सांसद पीएन सिंह यदि लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे, तो धनबाद लोकसभा सीट पर सबसे मजबूत दावा उनका बनता है। धनबाद की जनता और भाजपा कार्यकर्ताओं का भी यही विचार है।

दैनिक जागरण के कार्यालय में पहुंचे विधायक ढुलू महतो

विधायक ढुलू महतो ने यह बात बुधवार को जागरण कार्यालय में कही। वह दैनिक जागरण के साप्ताहिक कार्यक्रम प्रश्न पहर में शामिल होने आए थे। प्रश्न पहर में कई पाठकों ने विधायक ढुलू महतो से सवाल किया कि क्या वह धनबाद लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।

पीएन सिंह है धनबाद के लिए सबसे मजबूत दावेदार: ढुलू महतो

ढुलू महतो ने कहा कि वह पहले ही कह चुके हैं कि पीएन सिंह चुनाव लड़ेंगे तो वह दावा नहीं करेंगे। आज भी वह इस पर कायम हैं। हां, यदि पीएन सिंह चुनाव नहीं लड़ते हैं तब धनबाद सीट के लिए वह सबसे मजबूत दावेदार हैं। पार्टी चाहे तो सर्वे कराकर भी देख सकती है। सर्वे में उनका नाम सबसे आगे रहेगा। विदित हो कि धनबाद लोकसभा सीट से भाजपा के कई विधायक एवं वरिष्ठ नेता टिकट के लिए दावेदारी कर रहे हैं।

सरकार का ध्‍यान विकास से अधिक चोरी पर है: भाजपा विधायक

उनसे इस दौरान धनबाद में बिजली संकट को लेकर सवाल किया गया कि एक तरफ तो धनबाद के कोयले से पूरा देश रोशन हो रहा है, लेकिन पूरा जिला बिजली संकट से जूझ रहा है।

इसके जवाब में उन्‍होंने कहा कि भाजपा के समय में 22 से 30 घंटे तक बिजली रहती थी। अभी वाली सरकार सारा कोयला चोरी करवा रही है। सरकार का ध्यान विकास काम पर नहीं है, बल्कि कोयला, चालू, लोहा, अभ्रक की चोरी पर है। हमारी सरकार आने पर बिजली संकट नहीं होगी।

सरकार को बेरोजगारों से नहीं है मतलब: ढुलू महतो

निरसा में बेरोजगारी की बात पर विधायक ने कहा कि सरकार को बेरोजगारों से मतलब नहीं है। लगभग दो हजार से ज्यादा आदिवासी कोयला चोरी में मारे गए हैं। केवल निरसा में ही चार से पांच सौ की जान चली गई है।

लेकिन इस पर सरकार का कोई ध्यान नहीं है। हमने अपने स्तर से इलाके में हजारों बेरोजगारों को काम दिलाया है। आगे भी जितनी हमारी क्षमता है, बेरोजगारों, आदिवासी, दलित पिछड़ा गरीब के लिए लड़ेंगे।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.