जागरण संवाददाता, दुमका: पूर्व मुख्यमंत्री सह भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने देर शाम अंकिता के घर जाकर स्वजनों से घटना की जानकारी। उन्होंने कहा कि अंकिता की हालत नाजुक थी। उसे एयरलिफ्ट कर समय से पहले रांची रिम्स लाया जा सकता था। हो सकता समय पर इलाज मिलने के कारण उसकी जान बच जाती। दुमका की बेटी लावारिस की तरह अस्पताल में पड़ी रही। इससे सरकार की संवेदना का पता चलता है। कहा कि दुमका से मुख्यमंत्री के भाई बसंत सोरेन विधायक है, भाभी सीता सोरेन भी विधायक हैं। पता है कि दोनों उस वक्त क्या कर रहे थे। सरकार बच्ची की जान बचाने की बजाय अपराधियों को बचाने का प्रयास करती है। अपराधियों को फास्ट ट्रैक से सजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Atul Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट