श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। कश्मीर घाटी में मंगलवार को स्थिति लगभग सामान्य रही। गली-मोहल्लों में दुकानें लगभग दिनभर खुलीं। विभिन्न् सड़कों और इलाकों में रेहड़ी-फड़ी और फुटपाथ पर सामान बेचने वाले दिनभर डटे रहे। हालांकि सभी प्रमुख बाजार और निजी प्रतिष्ठान दिनभर बंद रहे, लेकिन सुबह सात बजे से 11 बजे तक और शाम चार बजे से रात नौ बजे तक कई जगह बाजार खुले।

इस बीच, पूरी वादी में सभी सरकारी कार्यालय खुले और कर्मियों की उपस्थिति सामान्य रही। शिक्षण संस्थान खुले थे, लेकिन छात्रों की उपस्थित नाममात्र रही, जबकि अध्यापक व अन्य स्टाफ की उपस्थिति 70 फीसद रही। सड़कों पर वाहनों की आवाजाही भी खूब रही। बटमालू, लालचौक, डलगेट सेक्शन और राजबाग में दिनभर जाम की स्थिति रही। ट्रैफिक पुलिस कमियों को यातायात बहाल करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

उधर, प्रशासन ने सामान्य जनजीवन को बहाल होते देख बौखलाए जिहादी तत्वों के मंसूबों को नाकाम बनाने के लिए श्रीनगर समेत वादी के सभी प्रमुख कस्बों में सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त रखा हुआ था। देर शाम गए तक वादी में स्थिति लगभग शांत और सामान्य बनी रहीं।

इसी बीच मंडलायुक्त बसीर अहमद खान ने बताया कि लैंडलाइन और पोस्टपेड मोबाइल सेवा को बहाल करने के बाद राज्य प्रशासन ने मंगलवार को घाटी के प्रत्येक जिले में 50-50 पीसीओ स्थापित करने का एलान किया है। इन पीसीओ से आम लोग निशुल्क फोन कर सकेंगे। यह कदम सुधरते हालात के बीच आम लोगों को देश-विदेश में अपने परिजनों से संपर्क बनाने के लिए उठाया गया है। 

पोस्टपेड मोबाइल चलने के कुछ घंटे बाद एसएमएस बंद

उधर, कश्मीर घाटी में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएं बहाल करने के कुछ ही घंटे बाद एसएमएस सेवा बंद कर दी है। राज्य प्रशासन को आशंका थी कि शरारती तत्व एसएमएस से दुष्प्रचार कर सकते हैं, जिससे घाटी के हालात बिगड़ सकते हैं।

अलबत्ता, सोमवार दोपहर 12 बजे पोस्टपेड मोबाइल सेवाएं बहाल करने के बाद शाम पांच बजे एसएमएस सेवा को बंद कर दिया। राज्य प्रशासन ने कहा कि एसएमएस सेवा को वादी के मौजूदा सुरक्षा परिदृश्य के मददेनजर ही बंद किया गया है। पूरी वादी में 40 लाख के करीब पोस्ट पेड मोबाइल सोमवार को बहाल कर दिए गए थे। हालांकि अभी तक 25 लाख के करीब प्री-पेड मोबाइल सहित इंटरनेट सेवाएं बंद हैं।

उल्लेखनीय है कि वादी में पोस्ट पेड मोबाइल फोन सेवाएं बहाल होने के कुछ घंटे बाद ही गत सोमवार को आतंकियों ने दक्षिण कश्मीर में राजस्थान के एक ट्रक चालक की गोली मारकर हत्या कर दी थी। यह चालक शोपियां में एक सेब व्यापारी का माल दिल्ली की मंडी में पहुंचाने के लिए अपना ट्रक लेकर आया था।

चार अगस्त मध्यरात्रि से बंद थी मोबाइल सेवाएं

राज्य सरकार ने पांच अगस्त को केंद्र सरकार के अनुच्छेद 370 पर फैसला लेने से पूर्व चार अगस्त मध्यरात्रि को जम्मू कश्मीर में लैंडलाइन, मोबाइल फोन व इंटरनेट सेवाएं को बंद कर दी थीं। हालात बेहतर होने पर राज्य सरकार ने घाटी में अगस्त माह के दूसरे पखवाड़े में लैंडलाइन सेवा को बहाल करना शुरू किया था। यह काम गत माह पूरा हुआ। इसके बाद विभिन्न संगठनों के आग्रह और वादी में सुधरते हालात को देखते हुए राज्य सरकार ने सोमवार को वादी में पोस्ट पेड मोबाइल सेवा को भी पूरी तरह बहाल कर दिया था।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप