श्रीनगर, बलबीर सिंह। Kishtwar three terrorists जम्मू और कश्मीर के किश्तवार जिला पुलिस ने हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े तीन आतंकवादियों पर 30 लाख रुपये की नकद पुरस्कार राशि देने का ऐलान किया है।जिसमे मोहम्मद अमीन पर 15 लाख रुपये का इनाम है। दुसरे रियाज अहमद और मुदस्सिर हुसैन पर अलग अ  लग 7.5 लाख रुपये का इनाम का ऐलान किया गया हैं। 

जानकारी के अनुसार पुलिस ने डोडा और किश्तवाड़ जिला को आतंक मुक्त बनाने की मुहिम तेज कर दी है। हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी हरुन वानी को जिंदा या मुर्दा पकड़ने के लिए डोडा पुलिस द्वारा 15 लाख रुपये की घोषणा करने के अगले दिन किश्तवाड़ पुलिस ने भी जिले में बचे तीन आतंकियों पर 30 लाख का इनाम घोषित कर दिया है।

किश्तवाड़ के एसएसपी डॉ. हरमीत सिंह मेहता ने बताया कि तीनों आतंकियों को ङ्क्षजदा या मुर्दा दबोचने के लिए 30 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। इसमें अमीन बट उर्फ जहांगीर सरूरी पर 15 लाख और रियाज अहमद और मुदस्सर पर साढ़े सात-साढ़े सात लाख का इनाम रखा गया है। पुलिस ने हिजबुल के इन तीनों आतंकियों के पोस्टर भी जारी किए हैं, जिनपर सूचना देने के लिए फोन नंबर भी दिए गए हैं। पोस्टर के जरिए लोगों से अपील की गई है कि आतंकियों को पकड़वाने में पुलिस की मदद करें। सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा। गत मंगलवार को डोडा पुलिस ने भी हरुन वानी के पोस्टर जारी किए थे।

सुरक्षाबलों से छिपते फिर रहे आतंकी :

किश्तवाड़ जिले में अब यही तीन आतंकी बचे हैं, जो पुलिस व सुरक्षाबलों से छिपते फिर रहे हैं। आने वाले दिनों में यदि ये तीनों मारे या पकड़े जाते हैं तो किश्तवाड़ पूरी तरह आतंकवाद मुक्त हो जाएगा। वहीं हरुन वानी डोडा में सक्रिय है। सूत्रों की मानें तो हरुन का साथी दक्षिण कश्मीर के शोपियां का रहने वाला आतंकी नावेद शाह वापस अपने इलाके में चला गया है। उसे हिजबुल मुजाहिदीन ने रियाज नायकू की जगह कमांडर बनाया है। ऐसे में किश्तवाड़ व डोडा में सक्रिय व बचे चार से पांच आतंकियों को दर-दबोचना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती नहीं होगा, क्योंकि पुलिस ने किश्तवाड़ में सक्रिय ओवर ग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्लू) को पहले से ही दबोच कर इन आतंकियों का नेटवर्क तोड़ दिया है।

आतंकी जहांगीर के भाई सहित हिजबुल के दो ओजीडब्ल्यू दबोचे :

किश्तवाड़ पुलिस ने हिज्बुल मुजाहिदीन के दो ओवर ग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) को पकड़कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। किश्तवाड़ पुलिस ने पिछले कई दिनों से आतंकियों और उनके साथियों के सफाया के लिए बड़े स्तर पर अभियान छेड़ा हुआ है। अब तक करीब 25 ओजीडब्ल्यू दबोचे जा चुके हैं। मंगलवार रात पकड़े गए ओजीडब्ल्यू की पहचान हिजबुल मुजाहिदीन के सक्रिय कमांडर अमीन भट्ट उर्फ जहांगीर सरूरी का भाई अब्दुल करीम और दानिश नासिर के रूप में हुई है। ये दोनों काफी समय से हिजबुल का नेटवर्क चला रहे थे। दानिश के बारे में कहा जाता है कि कि वह आतंकी ओसामा बिन जावेद के भी संपर्क में था। वहीं अब्दुल करीम अपने भाई जहांगीर को सुरक्षाबलों की सारी सूचना देता था। जब सुरक्षाबलों को पता चला कि जहांगीर पाडर के कजाई इलाके में छिपा हुआ है, तो उन्होंने वहां का रुख किया। इससे पहले ही अब्दुल करीम अपने भाई जहांगीर को किसी दूसरे ठिकाने पर ले गया। इसकी जानकारी पुलिस और सुरक्षाबलों को लगी तो उन्होंने दोनों ओजीडब्ल्यू को दबोच लिया।

किस पर कितना इनाम

हरुन वानी : 15 लाख रुपये

जहांगीर सरूरी : 15 लाख

रियाज अहमद : 7.5 लाख

मुदस्सर : 7.5 लाख 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप