राज्य ब्यूरो, श्रीनगर। सोमवार को कश्मीर में स्थिति पूरी तरह से शांत और नियंत्रित रही। श्रीनगर, बारामुला, कुपवाड़ा, अनंतनाग, कुलगाम, शोपियां समेत वादी के सभी प्रमुख शहरों व कस्बों के गली-मोहल्लों में सुबह-शाम रोजमर्रा के सामान की दुकानें खुली। सार्वजनिक वाहन नजर नहीं आए, लेकिन निजी और तिपहिया वाहन सड़कों पर दौड़ते नजर आए।

श्रीनगर-जम्मू हाईवे पर भी श्रीनगर से लेकर जवाहर सुरंग तक कई जगह दुकानें खुली रहीं। रेहड़ी-फड़ी और फुटपाथ पर सामान बेचने वालों की दुकानें भी सजी रहीं। किसी भी जगह दिन की पाबंदियां नहीं थी, लेकिन सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे। पूरी वादी में लैंडलाइन फोन सेवाएं सुचारू हो गई हैं। कुपवाड़ा व हंदवाड़ा में मोबाइल फोन भी शुरू हो चुके हैं।

बौखलाए अलगाववादी और आतंकी संगठन
घाटी में सामान्य होते हालात से बौखलाए अलगाववादी और आतंकी संगठन घाटी में जबरन बंद लागू करवाना चाह रहे हैं। अलगाववादियों और आतंकियों के डर से लोग प्रमुख बाजारों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बंद रख रहे हैं। हालांकि कई जगह दुकानें सुबह शाम खुल रही हैं।

संवेदनशील इलाकों में बढ़ाई गश्त
सामान्य जनजीवन के धीरे-धीरे पटरी पर लौटने से हताश आतंकी और अलगाववादी संगठनों के मंसूबों को नाकाम बनाने के लिए श्रीनगर सहित वादी के सभी इलाकों में कड़े सुरक्षा प्रबंध हैं। डाउन-टाउन सहित सभी संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षाबलों की गश्त बढ़ा दी गई है। अलबत्ता, देर शाम तक कुछेक इलाकों में छिट-पुट पथराव की घटनाओं को छोड़कर स्थिति पूरी तरह शांत रही। राज्य पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि स्थिति पूरी तरह शांत और नियंत्रित है। किसी जगह कोई हिंसा की स्थिति पैदा नहीं हुई। इसके अलावा आज बीते दिनों की अपेक्षा सड़कों पर आम लोगों और वाहनों की आवाजाही ज्यादा रही है।

स्कूल में नहीं पहुंच रहे छात्र
सभी सरकारी कार्यालय और सरकारी स्कूल खुले रहे, लेकिन स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति कम ही है। हालांकि खुले सरकारी स्कूलों में स्टाफ की उपस्थिति भी 70 फीसद रही। बैंक भी सामान्य दिनों की तरह ही खुले। सरकारी कार्यालयों, जिला उपायुक्त कार्यालयों और नागरिक सचिवालय में आज कर्मचारियों की उपस्थिति लगभग सामान्य रही व बिना रुकावट के कामकाज हुआ।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र विधानसभा: कांग्रेस-NCP के बीच सीटों का बंटवारा, रास आ गया फिफ्टी-फिफ्टी का फार्मूला

इसे भी पढ़ें: मठ से हटाए जाने के बाद 86 बाघों की हुई मौत, सरकार को ठहराया गया जिम्मेदार

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप