जागरण संवाददाता, कठुआ/रामकोट: जिले में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ने का क्रम जारी है। बुधवार को सौ नए संक्रमित मिले। इनमें कठुआ शहर से ही सबसे ज्यादा 26 संक्रमित मिले, जबकि पड़ोस के परोल मेडिकल ब्लॉक में 22 संक्रमित मिले हैं। बिलावर में भी संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। वहां पर 22 नये संक्रमित और मिले हैं। इसी तरह, बसोहली में 10, हीरानगर में 16 और बनी में 4 संक्रमित मिले।

इसके साथ ही जिले में सक्रिय संक्रमितों की संख्या 557 पहुंच गई है। हालांकि राहत की बात यह है कि पहले से संक्रमित 82 स्वस्थ भी हुए है। उधर, रामकोट कस्बे में मंगलवार को छह पुलिस कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया। इसके बाद बुधवार को प्रशासन ने सभी सरकारी स्कूल 3 दिन के लिए बंद करवा दिए। साथ ही पुलिस चौकी के 500 मीटर दायरे में आने वाली सभी दुकाने बंद करवा दी। हालांकि, प्राथमिक उपचार केंद्र रामकोट में जांच करवाने के बाद सभी दुकानदारों ने अपनी दुकानें दोबारा खोल दी।

इन सबके बीच जिले में नए मिले संक्रमितों में 82 स्थानीय समुदाय से है, जबकि 18 का यात्रा इतिहास है। इसी के साथ जिले में वर्ष 2020 से जारी कोरोना महामारी से लेकर अब तक कुल 10230 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 9517 स्वस्थ भी हुए हैं। 156 लोगों की मौत भी हो चुकी है। इसके बावजूद अब तीसरी लहर कोरोना की न तो लोगों को ज्यादा खतरनाक लग रही है और न ही स्वास्थ विभाग को। इसी कारण इस बार संक्रमित मिलने पर सभी को होम आइसोलेशन में रखा जा रहा है। अस्पताल और प्रशासनिक क्वारंटाइन नहीं किया जा रहा है। इससे लोगों को भी राहत है।

संक्रमित होने पर भी लोगों में भी अब कोरोना बीमारी को लेकर पहले जैसा भय नहीं है। सिर्फ प्रशासनिक पाबंदियों के चलते ही लोगों में थोड़ा बहुत सुरक्षा को लेकर उपाये किए जा रहे हैं। इस महामारी के साथ भी और बाद भी जीना सीख रहे हैं। इसी के चलते बाजारों व सार्वजनिक स्थानों पर लोग बिना किसी खौफ के सामान्य गतिविधियों को जारी रखे हुए हैं।

बहरहाल, रामकोट क्षेत्र में पुलिसकर्मियों के संक्रमित होने के बाद नायब तहसीलदार सुरेंद्र सिंह ने बाजार का दौरा किया और करते हुए, पुलिस स्टेशन के 500 मीटर दायरे में आने वाले सभी दुकानदारों और लोगों के जांच करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि जब तक जांच पूरे नहीं हो जाते तब तक दुकानें बंद रखी जाएंगी। इस बीच राशन डिपो पर राशन लेने वालों को भी बिना जांच करवाए राशन देने पर रोक लगा दी गई। उन्होंने दुकानदारों को हिदायत दी कि वे दुकानों पर मास्क लगाकर ही बैठे और बिना जांच करवाए कोई भी दुकानदार दुकान नहीं खोलेगा। बिना मास्क किसी भी ग्राहक को दुकान के अंदर नहीं प्रवेश करने की अनुमति देगा।

प्राथमिक उपचार केंद्र रामकोट के सह प्रभारी धर्मेज कुमार ने बताया कि अस्पताल में सौ लोगों ने कोरोना की जांच करवाई, जिन्हें मौके पर ही प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया। इस बीच दो लोग जांच में संक्रमित मिले, जिन्हें दवा और ऑक्सीमीटर देकर होम क्वारंटाइन कर दिया गया।

Edited By: Jagran