श्रीनगर, जेएनएन : कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ जंग लड़ रही पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है। टारगेट किलिंग, अमरनाथ यात्रा के दौरान आतंकी हमले करने की धमकी दे रहे लश्कर-ए-तैयबा के सहयोगी संगठन द रेसिस्टेंस फ्रंट के दो आतंकवादियों को पुलिस ने भारी मात्रा में हथियारों के साथ गिरफ्तार किया है। आइजी कश्मीर विजय कुमार ने पुलिस जवानों को इस सफलता के लिए बधाई देते हुए बताया कि इन दोनों आतंकवादियों को चनापोरा से गिरफ्तार किया गया। इन दोनों को टारगेट किलिंग का काम सौंपा गया था। दोनों से पूछताछ की जा रही है।

आइजी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि टारगेट किलिंग के बाद कश्मीर में पुलिस ने अपने अभियानों में तेजी लाई है। आगामी वार्षिक अमरनाथ यात्रा को देखते हुए भी पुलिस व अन्य सुरक्षाबलों ने आतंकियों पर शिकंजा कसा हुआ है। सूचना के आधार पर जहां-जहां आतंकियों के छिपे होने की आशंका होती है, बिना समय गवाएं वहां अभियान छेड़ा जाता है। इसमें काफी हद तक सफलता मिल रही है। सूचना के आधार पर ही श्रीनगर जिले के चनापोरा में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिली।

पुलिस के एसओजी के जवान बिना पल गवाएं इलाके में पहुंच गए और आतंकियों की तलाश शुरू कर दी। योजनाबद्ध तरीके से जवानों ने इस अभियान को चलाया और वहां छिपे दोनों आतंकियों को जिंदा गिरफ्तार कर लिया। जब वहां तलाशी ली गई तो पुलिस ने वहां से 15 पिस्तौल, 30 मैगजीन, 300 राउंड, एक साइलेंसर, कुछ ग्रेनेड व अन्य आपत्तिजनक सामग्री प्राप्त की। प्राथमिक पूछताछ में यह पता चला है कि इन दोनों आतंकवादियों को क्षेत्र में टारगेट किलिंग का काम सौंपा गया था। ये दोनों आतंकी यहां बैठ यही योजना बना रहे थे।

आइजीपी विजय कुमार ने इन आतंकियों की गिरफ्तारी को बड़ी सफलता करार देते हुए जवानों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि समय पर इन आतंकवादियों की गिरफ्तारी की वजह से कई कीमती जानें बच गई। पुलिस ने दावा किया है कि इन दोनों से पूछताछ के आधार पर और गिरफ्तारियां संभव हैं। इन दोनों से टीआरएफ से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी मिल सकती हैं।

Edited By: Rahul Sharma