कटड़ा, राकेश शर्मा। श्री माता वैष्णो देवी में भले इस समय बर्फबारी बंद हो गई है परंतु बर्फ की सफेद चादर में लिपटा मां का आलौकिक भवन व आसपास के त्रिकुटा पर्वत स्वर्ग जैसा एहसास करवा रहे हैं। मां के इस दृव्य महिका के दर्शन करने के लिए एकाएक से श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। आज शनविार दोपहर 3 बजे तक करीब 15000 से अधिक श्रद्धालु यात्रा पंजीकरण करवा चुके थे। जबकि गत शुक्रवार को 12 हजार श्रत्रालुओं ने बिगड़े मौसम की परवाह न करते हुए बर्फबारी व बारिश के बीच मां के चरणों में हाजरी दी। प्रबंधन का कहना है कि शाम तक श्रद्धालुओं की संख्या दोगुनी होने की संभावना है। हालांकि खराब मौसम के कारण यात्रा मार्ग पर बिजली ढांचे को नुकसान भी पहुंचा है।

बर्फबारी फिलहाल थम चुकी है परंतु भवन में शीत लहर का प्रकोप बना हुआ है। भैरव घाटी मार्ग पर डेढ़ फुट से अधिक बर्फ जमी हुई है। श्रद्धालुओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड लगातार दूसरे दिन भी इस मार्ग पर यात्रा बंद रखी। पैसेंजर केबल कार भी नहीं चलाई गई। भवन में इस समय घना कोहरा छाया हुआ है, इसी वजह से कटड़ा से चलने वाली हेलीकॉप्टर सेवा भी स्थगित है। मौसम में आंशिक सुधार होते ही शनिवार को अति महत्वपूर्ण बैटरी कार मार्ग का निरीक्षण करने के उपरांत श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने इस महत्वपूर्ण मार्ग पर श्रद्धालुओं की आवाजाही बहाल कर दी है।

बिजली ढांचे को पहुंचा नुकसान: बर्फबारी व बारिश के कारण श्री माता वैष्णो देवी यात्रा मार्ग पर बिजली ढांचे को भी नुकसान पहुंचाया है। इस कारण नए यात्रा मार्ग पर बैटरी कार सेवा भी स्थगित करनी पड़ी। बोर्ड अधिकारियों ने बताया कि यात्रा मार्ग पर कई जगह पेड़ गिर गए हैं जिसकी वजह से बिजली सप्लाई लाइन को क्षति पहुंची है। बिजली की आपूर्ति को बहाल करने के लिए कर्मी जुटे हुए हैं। इसके अलावा वैष्णो देवी मार्ग व भैरव घाटी मार्ग पर बर्फ हटाने का काम भी युद्ध स्तर पर जारी है। इसी बीच वैष्णो देवी भवन पर श्रद्धालुओं को मां वैष्णो देवी के अलौकिक दर्शन बिना किसी परेशानी के हो इसके लिए प्रशासन ने जरनेटर से वैष्णो देवी गुफा, प्रांगण में कर रखी है। श्रद्धालु बिना किसी परेशानी के निरंतर मां वैष्णो देवी के अलौकिक दर्शन कर रहे हैं।

हैलीकाप्टर सेवा भी रही प्रभावित: भैरव घाटी मार्ग पर करीब एक से डेढ़ फीट बर्फबारी जमी हुई है। मार्ग पर फिसलन के कारण यह यात्रा के लिए सुरक्षित नहीं माना जा रहा है। इसी वजह से इसे यात्रा के लिए बंद रखा गया है। शनिवार को भी घने बादल छाए रहने की वजह से सांझी छत में घना कोहरा छाया हुआ है। विजिबिल्टी न होने की वजह से हैलीकॉप्टर सेवा भी बंद रखी गई है। जहां तक बैटरी कार सेवा की बात है तो बोर्ड अधिकारियों का कहना है कि मार्ग की सफाई होने व बिजली आपूर्ति सुनिश्चित होते ही ये सेवा शुरू कर दी जाएगी। फिलहाल श्रद्धालु घोड़ा-पिट्ठू अथवा पालकी आदी कर वैष्णो देवी भवन की ओर प्रस्थान कर रहे हैं। भवन मार्ग पर फिसलन के कारण श्रद्धालुओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है परंतु इसका ध्यान रखते हुए वे सावधानी से आगे बढ़ रहे हैं। श्रद्धालुओं को जागरूक करने के लिए आपदा प्रबंधन व बोर्ड कर्मचारी मार्ग पर तैनात भी हैं।

सर्दी से बचने के लिए किए हैं हर प्रबंध: कड़ाके की ठंड से श्रद्धालुओं को बचाने के लिए वैष्णो देवी भवन के साथ ही मार्ग पर गर्म पानी, अंगीठी व कंबल की व्यवस्था की है। जगह-जगह यात्री शेड के नीचे अंगीठी का भी इंतजाम है। इन पर्याप्त सुविधाओं का फायदा उठाते हुए देश भर से यहां पहुंचे श्रद्धालु इन आलौकिक नजारों को अपने कैमरों में कैद करते हुए नजर आ रहे हैं।

भैरव घाटी मार्ग तथा बिजली व्यवस्था बहाल करने के प्रयास जारी: सीईओ रमेश कुमार

श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के सीईओ रमेश कुमार ने कहां की भैरों घाटी मार्ग पर यात्रा सुचारू करने और बिजली सप्लाई को बहाल करने के प्रयास लगातार जारी हैं। खराब मौसम इसके आड़े आ रहा है। फिर भी कर्मचारी युद्ध स्तर पर काम जारी रखे हुए हैं। उम्मीद है कि जल्द ही वैष्णो देवी भवन के साथ ही मार्ग पर बिजली सप्लाई सुचारू कर दी जाएगी। वहीं मौसम में सुधार होते ही भैरव घाटी मार्ग को भी सुचारू कर दिया जाएगा।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस