जम्मू, दिनेश महाजन : श्री माता वैष्णो देवी कटड़ा रेलवे स्टेशन से गाजीपुर जा रहे रेलगाड़ी कठुआ के छन रोड़िया रेलवे स्टेशन पर आग का गोला बनने से बच गई। रेलवे अधिकारी की सूझबूझ से कई यात्रियों की जान बच गई। चलती रेलगाड़ी के चक्के में आग लग गई थी, समय रहते कार्रवाई होने से हादसा टल गया।

यह हादसा वीरवार सुबह दस बजे के करीब हुआ। हीरानगर रेलवे स्टेशन के सुपरिंटेंडेंट ने कटड़ा गाजीपुर एक्सप्रेस के एक चक्के में से धुंआ और आग निकलते हुए देखी। उन्होंने तुरंत छन रोडिया रेलवे स्टेशन पर इस बात की सूचना दी। चलती रेलगाड़ी में आग लगने की सूचना मिलते ही छन रोडिया रेलवे स्टेशन में तैनात स्टाफ तुरंत हरकत में आ गया। रेलगाड़ी के वहां पहुंचने से पूर्व ही स्टेशन सुपरिंटेंडेंट छन रोडिया जय ओमकार सिंह अपने कर्मियों के साथ आग पर काबू पाने वाले उपकरण लेकर मौके पर पहुंच गए।

रेलगाड़ी के स्टेशन पर पहुंचते ही कर्मियों ने पाया कि आग रेलगाड़ी के स्लीपर कोच एस-3 में लगी थी। रेल कर्मियों ने सूझबूझ से कोच में सवार यात्रियों को बाहर निकाला। आसपास के कोच में सवार यात्रियों को रेलगाड़ी से नीचे उतारा गया। इसी बीच रेल कर्मी आग पर काबू पाने में लग गई। रेलवे की मैकेनिकल विभाग के कर्मियों को भी मौके पर बुलाया गया। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद रेलगाड़ी को रवाना किया गया।

रेलगाड़ी के जिस कोच में आग लगी थी की मरम्मत की गई ताकि उसे पठानकोट के चक्की बैंक तक पहुंचाया जा सके। वहां कोच की स्थिति के हिसाब से उसे बदला जाएगा या फिर मरम्मत की जाएगी। आग पर काबू पाने के लिए रेल कर्मियों अग्निशमन यंत्रों का प्रयोग करने के साथ जिस चक्के से आग निकल रही थी पर रेत फेंक कर आग पर काबू पाया।

चक्के का ब्रेक ब्लाक जाम होने से हुआ हादसा : रेलगाड़ी के चक्के में लगी आग को काबू पाने में अहम भूमिका निभाने वाले छन रोडिया रेलवे स्टेशन के स्टेशन सुपरिंटेंडेंट जय ओमकार सिंह ने बताया कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि कोच के चक्के का ब्रेक ब्लाक जाम हो गया था, जिस कारण से हादसा हुआ है। कोच की मरम्मत कर रेलगाड़ी को रवाना किया गया है। 

Edited By: Rahul Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट