जम्मू, जागरण संवाददाता : भले ही अक्टूबर माह आ गया हो लेकिन चढ़े तापमान अभी भी तेज है। इसको लेकर अभी किसान मशरूम के बीज लगाने का साहस नहीं कर पा रहा। जम्मू के किसानों को अभी तापमान और नीचे जाने का इंतजार है।

मशरूम की खेती शुरू करते समय तापमान तकरीबन 25 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए। मगर जम्मू का तापमान 30 डिग्री के पार है। ऐसे में अगर बीज उचित नहीं है। अधिक गर्मी के कारण बीज सड़ सकता है। इसलिए किसान अभी और तापमान गिरने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि जम्मू व कठुआ को छोड पहाड़ी इलाकों में तापमान मशरूम की खेती के लिए साजगार हो गया है। वहां पर किसानों ने मशरूम लगाने का क्रम छेड़ दिया है।

कृषि उत्पादन व किसान कल्याण विभाग ने पहाड़ी क्षेत्रों में मशरूम का बीज भेजने का क्रम शुरू कर दिया है। जम्मू के किसानों काे चंद दिनों का इंतजार करना होगा। कृषि पंडितों का कहना है कि 15 अक्टूबर के आसपास जम्मू में तापमान नीचे आ जाएगा और मशरूम की खेती तब शुरू की जा सकेगी।

बहरहाल किसान मशरूम की खेती के लिए शेड की साफ सफाई करने के काम में जुट गए हैं। कई किसानों ने सारी तैयारियां कर ली हैं। जम्मू क्षेत्र में मशरूम की अच्छी खेती होने लगी है। बटन मशरूम, के अलावा ढींगरी मशरूम और गर्मियों में मिल्की मशरूम की खेती हो रही हैं। साल के अधिकांश समय मशरूम की खेती की जा सकती है। इसमें बटन मशरूम सबसे अधिक लगती है और खूब बिकती है।

मशरूम विकास अधिकारी संजय धर का कहना है कि जम्मू में किसान कुछ दिन का इंतजार कर लें। तापमान उचित होने पर ही इसकी खेती शुरू की जानी चाहिए। वहीं उन्होंने कहा कि मशरूम खेती में अब युवा बड़ा यूनिट लगाने के लिए भी आगे आ रहे हैं। मशरूम की खेती किसानों को मोटा मुनाफा कमरा सकती है। 

Edited By: Rahul Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट