जम्मू, जेएनएन। उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिला में उड़ी के कमलकोट इलाके में सतर्क सेना के जवानों ने पाकिस्तान की ओर से आतंकियों की घुसपैठ को नाकाम बनाते हुए तीनों आतंकियों को ढेर कर दिया है। मारे गए आतंकियों के पास से हथियार और गोला बारूद बरामद किए गए हैं। अन्य विवरण प्रतीक्षारत हैं।

यहां यह बता दें कि गत 21 अगस्त को राजौरी के झंगड़ सेक्टर में भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करते समय आतंकी तबरीक हुसैन को पकड़ा था। सैन्य अस्पताल में भर्ती तबरीक ने खुलासा किया है कि मैं 4-5 अन्य लोगों के साथ पाकिस्तानी सेना के कर्नल युनूस द्वारा भेजे गए एक आत्मघाती मिशन पर यहां आया था। उन्होंने मुझे भारतीय सेना को निशाना बनाने के लिए 30 हजार रुपये दिए थे। 21 अगस्त को घुसपैठ करते समय राजौरी के झंगड़ सेक्टर में पकड़ा था।

आतंकी ने यह भी बताया कि आने वाले दिनों में पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम (बैट) एक साथ तीन से चार जगहों पर हमला कर सकती है। यही वजह है कि भारतीय सीमा पर तैनात भारतीय जवान हर समय मुस्तैद रहते हैं लेकिन पिछले चार दिनों में सीमा पार बढ़ रही हलचल के उपरांत भारतीय सेना के जवान, बीएसएफ और अन्य सुरक्षा एजेंसियां सीमा पर पहले से अधिक सतर्कता बरत रही हैं। यही वजह है कि उड़ी के कमलकोट इलाके में जब पाकिस्तान की ओर से तीन आतंकियों ने घुसपैठ करने की नापाक कोशिश की तो सुरक्षाबलों ने उन्हें आत्मसमर्पण करने के लिए चेतावनी दी। उन्होंने इसे अनसुना कर वापस पाकिस्तानी सीमा की ओर लौटने लगे। इसी दौरान सुरक्षाबलों ने फायर खेल दिए और तीनों आतंकियों का काम तमाम कर दिया। मारे गए तीनों आतंकियों की पहचान की जा रही है। उनके पास से काफी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद हुआ है। उड़ी में कमलकोट इलाके के आसपास अभी भी तलाशी अभियान जारी है।

Edited By: Vikas Abrol

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट