श्रीनगर, पीटीआई। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी की अगुवाई वाली भारत जोड़ो यात्रा देश को एकजुट करने के लिए है, इसका राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। सरकार पर बरसते हुए फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि चुनावी फायदे के लिए दो समुदायों के बीच नफरत बोई जा रही है।

बुधवार को फारूक अब्दुला ने कहा कि राजनीतिक लाभ के लिए समुदायों को बांटा जा रहा है। चुनावी लाभ के लिए समुदायों के बीच नफरत बोई जा रही है। फारूक ने इस बात पर जोर कि लोगों को एक-दूसरे के कल्याण के लिए एकजुट होना चाहिए। उन्होंने कहा कि नफरत से केवल दुख होगा। इसलिए हमें एकजुट होकर प्रेम बांटना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Bharat Jodo Yatra: बारिश और भूस्खलन के कारण राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा रुकी

नफरत की दीवार को तोड़ना, यात्रा को उद्देश्य

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुला बुधवार को एक शोक सभा में भाग लेने के लिए दक्षिण कश्मीर के में थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा देश में फैली नफरत को खत्म करने के लिए है। उन्होंने कहा, "भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य देश को एकजुट करना और नफरत की (दीवारों को) तोड़ना है। जब तक हम एकजुट होकर एक-दूसरे के कल्याण के लिए नहीं सोचते, तब तक हम ऐसा देश नहीं बना सकते जिसका सपना हमारे पूर्वजों ने देखा था और जिसके लिए बलिदान दिया था। हमें एकजुट होकर अपने पूर्वजों के सपनों को पूरा करना चाहिए।

चुनाव जीतने के लिए फैलाई जा रही नफरत

बुधवार को नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि चुनाव जीतने के लिए समाज में नफरत फैलाई जा रही है। उन्होंने कहा, "देश के समुदायों के बीच में चुनाव जीतने के लिए नफरत फैलाई जा रही है। ऐसा दृष्टिकोण देश और लोगों को समृद्धि की ओर नहीं ले जाएगा, यह केवल दुख की ओर ले जाएगा। देश में फैल रही नफरत से हमारा और आपका भविष्य खराब रहेगा।"

यह भी पढ़ें: Jammu Kashmir News: गणतंत्र दिवस पर जम्मू कश्मीर पुलिस के 36 अधिकारी और कर्मियों को मिलेगा पुलिस मेडल

कश्मीरी पंडितों पर फारूक अब्दुल्ला ने कही बड़ी बात

बुधवार को फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि दशकों पहले पलायन करके गए कश्मीरी पंडितों की सम्मान के साथ वापसी होनी चाहिए। तीन दशक पहले कश्मीरी पंडितों के पलायन का जिक्र करते हुए श्रीनगर से लोकसभा सदस्य ने कहा कि वह चाहते हैं कि वे सम्मान के साथ घर लौटें।

फारूक अब्दुल्ला ने कहा, "हमारे कश्मीरी भाइयों को यह जगह छोड़नी पड़ी थी। वो अपना सबकुछ छोड़कर चले गए थे। मैं कामना करता हूं कि मेरे सोने से पहले गरिमा और सम्मान के साथ हमारे कश्मीरी पंडित भाई घर वापसा आ जाए।"

बता दें कि नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुला लगातार राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का समर्थन करते आए हैं। उन्होंने पहले भी कहा कि राहुल देश को एकजुट करने के लिए सड़कों पर हैं।

Edited By: Swati Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट