श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। समुद्रतल से करीब 3888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित स्वामी अमरनाथ की पवित्र गुफा के पास बुधवार को बादल फटने से अचानक आई बाढ़ में दो लंगर और सुरक्षाकर्मियों के एक शिविर को नुक्सान पहुंचा है। इसी दौरान उत्तरी कश्मीर के अलूसा बांडीपोर में भी बादल फटा अाैर उसके साथ आई बाढ़ में एक मस्जिद और एक मकान समेत चार इमारती ढांचे व सड़क क्षतिग्रस्त हो गई। अलबत्ता, इन दोनों ही जगहाें पर किसी प्रकार की जनक्षति की कोई सूचना नहीं है।

मिली जानकारी के अनुसार, आज दोपहर बाद साढ़े तीन बजे के करीब स्वामी अमरनाथ की पवित्र गुफा से करीब 200 मीटर दूर ऊपर पहाडी पर बादल फटा। इसके साथ ही वहां तेज बारिश हुई अौर पहाड़ के ऊपर से नाले में बाढ़ के साथ पत्थर अौर मलबा भी बहने लगा। पवित्र गुफा में तैनात एसपी सुरेंद्र चौधरी ने बताया कि बादल फटने से करीब साढ़े तीन बजे बाढ़ और बारिश शुरु हुई। यह करीब एक घंटे तक जारी रही। इसमें दोे लंगरों को नुक्सान पहुंचा है। इसके अलावा पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों के शीविरों को आंशिक नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि जैसे ही बादल फटा हम लोगों ने निचले क्षेत्र में स्थित सभी शीविर और तंबु खाली करा लिए थे।इसलिए किसी प्रकार का जानी नुकसान नहीं हुआ है। भगवान शंकर की कृपा से यहां सभी सकुखल हैं।

इसी दौरान बांडीपोर के ऊपरी हिस्से में स्थित अलूसा में भी दोपहर को बादल फटने के साथ तेज बाढ़ आई। इसमें एक मस्जिद और एक मकान समेत चार इमारती ढांचों के क्षतिग्रस्त होने की सूचना है। इसके अलावा अलूसा में कुछ सड़कें भी पानी में डूब गई और एक जगह सड़क केे बहने की सूचना भी है। अन्य विवरण प्रतीक्षारत हैं। 

Edited By: Vikas Abrol