बारामूला, जागरण डिजिटल डेस्क। जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधि लगातार जारी है। युवाओं को निशाना बनाकर घाटी में आंतकी लगातार अपने कायराना मंसूबों को पूरा कर रहे हैं। इसी बीच मंगलवार को बारामूला में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली। पुलिस ने अभियान चलाकर दो किशोर सहित पांच युवकों को आतंकी चंगुल से बचाया है। ये युवक आतंकियों के संपर्क में थे।

वैसे तो घाटी में आंतकवादी युवाओं को बंदूक थामने के लिए तैयार करते हैं। युवाओं को गुमराह करने और उन्हें आतंकवादी संगठनों में शामिल होने के लिए लुभाने के लिए आतंकवादियों की एक बड़ी गतिविधि का खुलासा हुआ। आतंकियों के इस चाल को बारामूला पुलिस ने सेना 29 आरआर के साथ मिलकर फेल कर दिया। 2 किशोर सहित 5 युवाओं को सुरक्षाबलों ने आतंकी रैंकों में शामिल होने से बचाने में सफलता हासिल की है।

यह भी पढ़ें: Surgical Strike Row: सेना के शौर्य पर कोई सवाल नहीं किया जा सकता... दिग्विजय के बयान पर बोले राहुल गांधी

युवाओं को उकसा रहे थे आतंकी

मिली जानकारी के अनुसार घाटी में आतंकी युवाओं को बंदूक थामने के लिए उकसा रहे थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि पाकिस्तान के आतंकी आकाओं द्वारा कुछ युवाओं को आतंकवादी संगठनों में शामिल होने के लिए उकसाया जा रहा है। पाकिस्तान से बैठे-बैठे आतंकी लगातार घाटी में युवाओं को निशाना बना रहे हैं।

सुरक्षाबलों ने युवाओं को बचाया

पाकिस्तान में बैठे आतंकी आका जम्मू-कश्मीर में कुछ युवाओं को आतंकवादी संगठनों में शामिल करने की कोशिश कर रहे थे। इसकी सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने सबसे पहले इन युवकों का पता लगाया और उनके माता-पिता की मदद से उनसे लगातार पूछताछ की गई।

लगातार की गई पूछताछ के बाद सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली। पूछताछ में युवकों ने कई खुलासे किए और इन खुलासे से पता चला कि ये युवक आतंकी संगठनों में भर्ती होने के लिए सोशल मीडिया के जरिए पाकिस्तान में आतंकी संचालकों के संपर्क में थे। ये आतंकी युवाओं के दिमाग में जहर घोलकर उन्हें अपने आतंकी संगठन में शामिल कराना चाहते थे। सुरक्षाबलों ने इन युवाओं को वक्त रहते बचा लिया और उनके मां-बाप को सौंप दिया।

जम्मू-कश्मीर पुलिस और भारतीय सेना कश्मीर के सभी युवाओं को गुमराह होने से रोकने का भरपूर प्रयास कर रही है। युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के दुश्मन के सभी नापाक मंसूबों को नाकाम करने के अपने संकल्प पर जम्मू-कश्मीर पुलिस और भारतीय सेना कश्मीर अडिग हैं।

यह भी पढ़ें: Jammu News: एलजी प्रशासन ने जेके आईएमपीएआरडी में कथित अवैध नियुक्तियों की जांच के दिए आदेश

कट्टरपंथी बनाने की थी साजिश

इस पूरे ऑपरेशन के तार पाकिस्तान से जुड़े हैं। पाकिस्तान से इन युवाओं के दिमाग में जहर घोला जा रहा था। आतंकी संचालक इन लड़कों के दिमाग को कट्टरपंथी बनाने की कोशिश कर रहे थे। समय रहते इन युवाओं को आतंकियों की इश साजिश से बचा लिया गया।

फिलहाल इन युवाओं को उनके माता-पिता को सौंप दिया गया है। इसके साथ ही पुलिस और सेना ने माता-पिता से अपने बच्चों की हर एक गतिविधियों पर नजर रखने की अपील की है।

Edited By: Swati Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट