Move to Jagran APP

Himachal Politics: जयराम ठाकुर बोले: कांग्रेस ने नहीं की जनता की परवाह, हिमाचल में OPS आती नहीं दिखाई दे रही

भाजपा नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर का ऊना पहुंचने पर स्वागत एवं अभिनंदन किया गया उनके साथ भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राजीव बिंदल की उपस्थित रहे। जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सरकार जब से सत्ता में आई है तब से अदला बदली की भावना से कार्य कर रही है

By Jagran NewsEdited By: Nidhi VinodiyaPublished: Fri, 03 Feb 2023 09:10 PM (IST)Updated: Fri, 03 Feb 2023 09:10 PM (IST)
जयराम ठाकुर बोले: कांग्रेस ने नहीं की जनता की परवाह, हिमाचल में OPS आती नहीं दिखाई दे रही

ऊना, जागरण संवाददाता : भाजपा नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर (Jairam Thakur) का ऊना (Una) पहुंचने पर स्वागत एवं अभिनंदन किया गया उनके साथ भाजपा (BJP)  के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राजीव बिंदल (Rajeev Bindal) की उपस्थित रहे।

जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सरकार जब से सत्ता में आई है तब से अदला बदली की भावना से कार्य कर रही है और कांग्रेस (Congress) की सरकार ने हिमाचल प्रदेश में चले चलाए संस्थानों को बंद कर दिया, उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आते ही अपनी 10 गरंटियो को पूरा नहीं कर पाई उन्होंने वादे तो बहुत किए थे पर कोई वादा पूरा नहीं हो पा रहा है।

कांग्रेस सरकार ने जनता की बिल्कुल परवाह नहीं की - जयराम 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने ऐसे कार्यालय भी बंद कर दिए जहां पर सरकारी मुलाजिम काम कर रहे थे और इन सभी कार्यालयों की पूर्ण रूप से स्वीकृति लेने के बाद ही खोला गया था। यह कार्यालय जनता की मांग पर खोले गए थे पर कांग्रेस सरकार ने जनता की बिल्कुल परवाह नहीं की।

OPS के आने की कोई संभावना नहीं लग रही 

जयराम ठाकुर ने कहा कि ओ पी एस (Old Pension Scheme) को लेकर कैबिनेट में फैसला कब का हो चुका है पर ओ पी एस (Old Pension Scheme) के आने की कोई संभावना नहीं लग रही है, अभी तक हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार द्वारा ओ पी एस को लेकर कोई नोटिफिकेशन भी जारी नहीं हो पाई है। बात अगर महिलाओं को 1500 प्रतिमाह की कि जाए तो वह वादा भी पूरा होता नहीं दिखाई दे रहा है।

यह भी पढ़ें - Shimla: निराश्रित बालिकाओं को घर बनाने के लिए भूमि और धन देगी सरकार, अनाथ आश्रम में रहने की आयु भी बढ़ाई

यह भी पढ़ें - Shimla News: प्रतिबंध के बावजूद शिक्षा विभाग में हो रहे तबादले, कई शिक्षकों को तीन साल भी पूरे नहीं हुए


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.