Move to Jagran APP

Himachal News: 'विक्रमादत्य को क्या पता गरीब और गरीबों की मजबूरी', कंगना रनौत ने कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना

मंडी संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी कंगना रनौत ने कांग्रेस प्रत्याशी विक्रमादित्य सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि हिमाचल के शहजादे मेरे चरित्र और मेरी वेशभूषा पर अंगुली उठा रहे हैं। नारी का सम्मान यदि कोई पार्टी करती है तो वह भाजपा है। शहजादे को हिमाचल की संस्कृति व वेशभूषा से भी परेशानी है। मैं जो अपनी प्रदेश की वेशभूषा पहन रही हूं उसे पूरा विश्व देख रहा है।

By rohit nagpal Edited By: Jeet Kumar Mon, 29 Apr 2024 06:00 AM (IST)
'विक्रमादत्य को क्या पता गरीब और गरीबों की मजबूरी'- कंगना रनौत

संवाद सहयोगी, रिकांगपिओ। मंडी संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी कंगना रनौत ने कांग्रेस प्रत्याशी विक्रमादित्य सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि हिमाचल के शहजादे मेरे चरित्र और मेरी वेशभूषा पर अंगुली उठा रहे हैं। नारी का सम्मान यदि कोई पार्टी करती है तो वह भाजपा है। शहजादे को हिमाचल की संस्कृति व वेशभूषा से भी परेशानी है। मैं जो अपनी प्रदेश की वेशभूषा पहन रही हूं उसे पूरा विश्व देख रहा है और हम प्रदेश सहित किन्नौर जिला की वेशभूषा को भी विश्व स्तर पर ले जाएंगे।

हिमाचल के शहजादे को क्या पता गरीबी और गरीबों की मजबूरी क्या होती है और मातृभूमि से प्रेम क्या होता है। मुझे मेरी मातृभूमि और हिमाचल का प्यार व अपनों का प्यार खींच कर ले आया है। मैं एक छोटे से पिछड़े हुए इलाके से संबंध रखती हूं, जहां सड़कें, स्कूल और अस्पताल तक नहीं थे। अब मैंने बालीवुड में आकांक्षाओं को पूरा कर लिया है अब जनता व मातृभूमि की सेवा में समर्पित होने आई हूं। उन्होंने प्रदेश में सुक्खू की सरकार को दुख की सरकार बताया।

रविवार को कंगना रनौत ने किन्नौर जिला के रिकांगपिओ में पन्ना प्रमुख सम्मेलन में कहा कि हिमाचल के पर्यटन को भी बढ़ावा देने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि भारत की गौरवमयी संस्कृति और सभ्यता महान है। देश में कांग्रेस का शासन खत्म होकर देश भ्रष्टाचार मुक्त हुआ है, अब देश में अब लोकतंत्र का शासन है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लोहा पूरा विश्व मानने लगा है।

भाषा की मर्यादा का ध्यान रखें विक्रमादित्य : जयराम

पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा कि देश में मोदी की लहर चल रही है। 10 साल के काम को देखकर देश के कोने-कोने से आवाज आ रही है कि आएगा तो मोदी ही। देश के लोग किसी नेता पर इस तरह से विश्वास अकारण ही नहीं कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री व कांग्रेस प्रत्याशी से पूछा कि जब किन्नौर के संस्थान मुख्यमंत्री बंद कर रहे थे, आप उसका विरोध करने की बजाय उनका समर्थन क्यों कर रहे थे?

विक्रमादित्य को भाषा की मर्यादा का ध्यान रखना चाहिए। हर दिन लोगों से इंटरनेट मीडिया में आकर सुझाव मांगते रहे, जब लोगों ने सुझाव दिए तो कहा दिया कि मैं डाकिया नहीं हूं। आप सभी लोग कंगना रनौत को भारी मतों से जिताकर दिल्ली भेजिए वह आपका डाकिया बनेंगी। प्रदेश वन विकास निगम के पूर्व उपाध्यक्ष सूरत नेगी ने बताया कि कंगना रनौत 29 अप्रैल को स्कीबा में पन्ना प्रमुख सम्मेलन में भाग लेंगी।