शिमला, राज्य ब्यूरो। नौकरियों पर सरकार की करूणा अब शिक्षा विभाग में भी बरसेगी। प्रदेश सरकार की नई नीति के अनुसार इस तरह के आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। पात्र पाए जाने पर सरकारी नौकरी मिल सकेगी। इस नीति में छह मानक तय किए गए हैं। एक परिवार की पेंशन समेत सभी स्रोतों से वार्षिक आय ढाई लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। पेंशन, कृषि, किराया, व्यापार, ब्याज समेत अन्य स्त्रोत की आय को ढाई लाख में ही रखा है। अगर एक परिवार में चार से अधिक सदस्य हैं तो उस सूरत में यह चार ही माने जाएंगे। अगर सदस्य तीन हैं तो वार्षिक आय एक लाख 87 हजार 500 रुपये रह जाएगी। दो सदस्य होंगे तो आय एक लाख 25 हजार 500 रुपये तक होनी चाहिए।

नए मानकों के हिसाब से पीड़ित परिवारों को नौकरी मिलने के आसार और कम हो गए हैं। नई नीति के संबंध में शिक्षा निदेशक उच्चतर डॉ.अमरजीत कुमार शर्मा ने सभी उपनिदेशकों को निर्देश जारी कर इनका कड़ाई से पालना करने को कहा है। इनके अनुसार सरकार ने करूणामूलक  आधार पर नौकरियां देने की नीति में संशोधन किया है। विभाग को अब आवेदन इसी के अनुरूप मान्य करने होंगे और तभी पात्र आवेदकों को रोजगार देने की सिफारिश की जाएगी। गौरतलब है कि प्रदेश में करूणामूलक आधार पर बड़ी संख्या में मामले लंबित हैं। विभागों में लंबित मामलों के त्वरित निपटारे के निर्देश तो दिए गए हैं, लेकिन नए मानक रोजगार देने के रास्ते में आड़े आएंगे।

यह मुद्दा पिछले साल कांगड़ा में हुए विधानसभा के शीतकालीन सत्र में प्रमुखता से उठा था। सरकार ने कहा था कि वह नीति में संशोधन करेगी और पहले से चल रही व्यवस्था का सरलीकरण करेगी। सरकारी कर्मचारी की मौत ड्यूटी के दौरान होती है तो उसका परिवार सरकार से एक सदस्य को नौकरी देने की मांग करता है।

 कैबिनेट बैठक में नए मंत्रियों पर हो सकता है फैसला

प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में सोमवार को सुबह 11 बजे होगी। इस दौरान दो नए मंत्री बनाए जाने के संबंध में चर्चा होगी। इसके अलावा स्कूल प्रवक्ता भर्ती के लिए दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों के मामले पर भी निर्णय लिया जाएगा। बैठक में रविवार को हुई पटवारी भर्ती के लिए लिखित परीक्षा में हुई गड़बड़ी पर भी मंथन हो सकता है। वहीं तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों के लिए होने वाली भर्ती के मापदंडों में संशोधन को मंजूरी दी जाएगी। इस श्रेणी के तहत पर्सनेल्टी मापन को 15 अंकों के लिए मापदंडों में बदलाव किया जाएगा। इससे पूर्व तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों के लिए साक्षात्कार लिए जाते थे। अब साक्षात्कार को समाप्त कर दिया है।

 हिमाचल की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस