Move to Jagran APP

Himachal Weather: हिमाचल में मानसून का तांडव, 42 सड़कें बंद; मौसम विभाग ने जारी किया भारी बारिश का अलर्ट

Himachal Weather News हिमाचल प्रदेश में मानसून आफत बन गया है। 42 सड़कें अभी भी बंद हैं। मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया है। चंबा में 80 कांगड़ा जिला में ही 40 ट्रांसफॉर्मर खराब हैं। 48 पेयजल योजनाएं ठप हैं। सात जिलों में तेज आंधी चलने के साथ बिजली गिरने की भी संभावना बनी हुई है।

By Jagran News Edited By: Himani Sharma Wed, 10 Jul 2024 08:01 AM (IST)
Himachal Weather News: हिमाचल में भारी बारिश का अलर्ट

राज्य ब्यूरो, शिमला। हिमाचल में वर्षा की चेतावनी के बीच अधिकतर स्थानों पर धूप खिली। मौसम विभाग ने कांगड़ा, मंडी, सोलन, सिरमौर, कुल्लू व शिमला जिला में वर्षा होने का अलर्ट जारी किया था, लेकिन शिमला के अतिरिक्त अन्य किसी भी स्थान पर वर्षा नहीं हुई।

मौसम विभाग के अनुसार बारिश की संभावना

प्रदेश में बुधवार को तीन विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए मतदान होना है। मौसम विभाग के अनुसार नालागढ़ में हल्की वर्षा का अनुमान है, जबकि देहरा और हमीरपुर में बादल छाए रहेंगे। मौसम साफ रहने पर अधिक मतदान होने का अनुमान है। हालांकि, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू, बिलासपुर, शिमला, सोलन व सिरमौर जिला में आंधी चलने के साथ बिजली गिरने का यलो अलर्ट जारी किया है। कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा हो सकती है।

42 सड़कें बंद

मंगलवार को अधिकतम तापमान में दो से 5.6 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की गई है। कल्पा में 5.6 डिग्री, रिकांगपिओ में 4.4, नाहन में तीन डिग्री की वृद्धि दर्ज की गई है। प्रदेश में 42 सड़कें यातायात के लिए बंद हैं। शिमला में 18, मंडी में 17, कांगड़ा में तीन, कुल्लू व किन्नौर में दो-दो सड़कें बंद हैं। 121 ट्रांसफार्मर खराब होने के कारण बिजली आपूर्ति बाधित है।

यह भी पढ़ें: Himachal Weather Update: हिमाचल प्रदेश में मानसून बनी आफत, कई जगहों पर भूस्खलन, 32 सड़कें यातायात के लिए बंद

चंबा और कांगड़ा में 40 ट्रांसफॉर्मर खराब

चंबा में 80, कांगड़ा जिला में ही 40 ट्रांसफॉर्मर खराब हैं। 48 पेयजल योजनाएं ठप हैं। वहीं, किन्नौर जिले के घरशू क्षेत्र में मंगलवार सुबह वर्षा होने से गांव के साथ लगते नाले में भारी मात्रा में पानी व मलबा आ गया। इससे सेब के पौधों सहित नकदी फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। कई परिवार अपने घरों को छोड़ सुरक्षित स्थानों में निकल गए।