मनाली, जेएनएन। रोहतांग सुरंग के दीदार के लिए अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। लाहुल घाटी को 12 महीने कुल्लू से जोड़े रखने व लेह-लद्दाख में बैठे देश के प्रहरियों तक आसानी से पहुंचने व रसद पहुंचने को लेकर बनाई जा रही रोहतांग सुरंग के निर्माण में छह महीने की देरी हो सकती है। सुरंग के दिसंबर-2019 में बनकर तैयार होने की उम्मीद जाहिर की जा रही थी, लेकिन अभी निर्माण कार्य पूरा करने में कई चुनौतियां हैं। जिसे देखते हुए उम्मीद जाहिर की जा रही है कि यह टनल 2020 के मध्य तक तैयार हो सकेगी। पीर पंजाल की पहाड़ियों में बनाई जा रही इस आधुनिक व महत्वपूर्ण सुरंग पर 4000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

बीआरओ ने इसी महीने सुरंग के दोनों छोर जोड़ दिए थे। छोर जुड़ने से हालांकि दोनों ओर मनाली व लाहुल से 12 महीने काम को गति दी जा सकी है, लेकिन सेरी नाले के रिसाव से निर्माण कार्य मे देरी हुई है। जून 2010 में जब रोहतांग टनल का शिलान्यास हुआ था, तब 2015 में इसके तैयार होने की बात कही गई थी लेकिन सेरी नाले के रिसाव ने न केवल निर्माण का लक्ष्य प्रभावित किया, बल्कि बीआरओ सहित निर्माण में जुटी स्ट्रॉबेग व एफकॉन कंपनी सहित डिजाइन से आकार देने वाली समेक कंपनी को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 

इस सुरंग के बनने से लाहुल घाटी मनाली से 48 किमी नजदीक आ जाएगी और वाया शिंकुला होते हुए सीमावर्ती क्षेत्र कारगिल में पहुंचना और भी आसान हो जाएगा। बीआरओ की मानें तो अभी 300 मीटर भाग उन्हें चुनौती दे रहा है, लेकिन कार्य युद्धस्तर पर जारी है। बीआरओ चीफ इंजीनियर विशेष सेवा मेडल प्राप्त ब्रिगेडियर केपी पुरुषोहोथमन का कहना है कि हालांकि काम की रफ्तार में कमी नहीं आई है, लेकिन 300 मीटर के भाग में सेरी नाले का पानी सभी की दिक्कत को बढ़ा रहा है। कार्य युद्धस्तर पर जारी है।

उन्होंने कहा कि बीआरओ के डीजी हरपाल सिंह रोहतांग सुरंग निर्माण कार्य का जायजा लेने 18 सितंबर को मनाली आ रहे हैं। मिनी कॉन्क्लेव में भाग लेने मनाली आए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी माना कि सेरी नाले के पानी के रिसाव के चलते रोहतांग सुरंग निर्माण में देरी हो सकती है। उन्होंने बताया कि जब भी वह दिल्ली में पीएम से मिलते हैं तो पीएम रोहतांग टनल निर्माण की चर्चा करना नहीं भूलते।

हिमाचल की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस