नाहन,जागरण संवाददाता। जिला सिरमौर में एक ऐसा भी स्कूल है जिसका जर्रा-जर्रा ज्ञान दे रहा है। नाहन क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले इस स्कूल का गेट, दीवारें, फर्श और छत्त बच्चों में ज्ञान की जोत जला रही हैं। इस स्कूल को एक बार जो भी देख ले, वह इसे आसानी से भूला नहीं पाता है। टीजीटी मेडिकल प्रदीप शर्मा ने बिना चर्चा में आए ऐसा कुछ कर दिखाया है, जो बिल्कुल अनूठा है। इस बात की गवाही स्कूल का हर जर्रा दे रहा है।

नाहन निवासी विज्ञान शिक्षक प्रदीप शर्मा ने स्कूल को इस तरह से तैयार किया है कि गेट से लेकर स्कूल की दीवारें, छतें, फर्श, रेलिंग, खिड़कियां भी बच्चों के ज्ञान में वृद्घि कर रही हैं। स्कूल में एक ऐसा कमरा भी है, जिसमें सूर्य की रोशनी के बीच आसमान का पूरा नक्शा, आकाश गंगाएं और उनके नाम नजर आते हैं। दरवाजा बंद करते ही पूरा आसमान चांद तारों में तबदील हो जाता है। इससे बच्चों को रात में आकाश गंगाएं व तारा समूह पहचाने में मदद मिलती है। यहां तक कि स्कूल की रैलिंग को भी इस तरह डिजाइन किया कि उससे भी बच्चों को ज्ञान मिल सके। स्कूल के फर्श में भी ज्ञानवर्धक आकृतियां उकेरी गई हैं।

कहीं दीवारों पर वायुमंडल बनाया गया है तो कहीं, प्रयोगशाला पात्र, सौरमंडल व ज्योमितिकल आकृतियां उकेरी गई है। इस स्कूल में एक तरह से बच्चों को प्रैक्टिकल ज्ञान दिया जा रहा है। प्रदीप शर्मा का यह प्रयास आज भी जारी है। उन्होंने इस स्कूल में पेड डिस्पोजल प्लांट के अलावा सेंसर लगे नल व वाश बेसन भी स्थापित किए है। स्कूल के प्रभारी प्रदीप शर्मा का प्रयास है कि बच्चों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान की जाए।

यही कारण है कि उन्होंने स्कूल को इस तरह से तैयार किया है कि जहां भी बच्चे नजर डालें, उसे देख ज्ञान में वृद्घि हो। यहां बच्चों की सोच में हर तरह से सकारात्मक दृष्टिकोण को पैदा किया जा रहा है। फर्श पर लोहे के फ्रेम में चिप्स का प्रयोग किया है। दीवारों पर सरिए को बैंड करके और सीमेंट से विज्ञान व गणित संबंधी आकृतियां बनाई हैं।

Edited By: Richa Rana