धर्मशाला, जेएनएन। PM Talk with DC Kangra, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के सर्वाधिक कोरोना प्रभावित जिलों के उपायुक्तों से बात की। जिला कांगड़ा भी इस सूची में शामिल था। मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर सहित उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति भी इस कार्यक्रम में वर्चुअली जुड़े। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए क्या किया जा सकता है इस पर मोदी ने संबोधित किया।

उपायुक्‍त ने कहा कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल बैठक में जरूरी दिशा निर्देश दिए हैं। उपायुक्त ने कहा कि बैठक में निर्देश दिए हैं कि पंचायतों के लोगों को भी कोरोना के खिलाफ मुहिम में ज्यादा से ज्यादा जोड़ा जाए। अलग-अलग इनोवेशन की जाए, ताकि अलग-अलग तरह की समस्याओं से निपटा जा सके। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री ने हर जगह दो दो कार एंबुलेंस शुरू करने की बात भी कही है, ताकि कहीं पर एंबुलेंस की समस्या न खड़ी हो। कार एंबुलेंस शुरू करके ऐसी व्यवस्था बनाई जाए कि जिसमें मरीज को लाया ले जाया जा सके। हर जगह दो-दो कार एंबुलेंस शुरू की जाएं।

बैठक में प्रधानमंत्री ने अशा वर्कर्स व अन्य निचले स्तर के लोगों के नेटवर्क को मजबूत करने की भी बात कही है। साथ ही यह भी कहा है कि जिन लोगों में कोरोना के लक्षण हैं उनकी जांच करवाई जाए और जो होम आइसोलेशन में हैं, उनका ख्याल रखा जाए। उपायुक्‍त ने कहा प्रधानमंत्री से उनकी बात तो नहीं हुई पर वह बैठक में ऑनलाइन जुड़े थे और जो भी दिशा निर्देश उनकी तरफ से कोरोना महामारी से निपटने के लिए दिए गए हैं उनकी बखूबी पालना की जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित जिलों के उपायुक्तों से वर्चुअल बैठक कर रहे थे।

कांगड़ा जिले में 36,156 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 11,524 सक्रिय केस हैं। जिला में कोरोना संक्रमण से सबसे ज्‍यादा लोगों की मौत हुई है, अब तक 686 लोग जान गंवा चुके हैं। जिला में 23 हजार से ज्‍यादा मरीज स्‍वस्‍थ हो चुके हैं। कुछ दिन से मामलों में मामूली गिरावट आई है।

यह भी पढ़ें: कांगड़ा में मां की मृत्यु के पांच दिन बाद कोरोना ने बेटे की भी ले ली जान, टांडा मेडिकल कॉलेज में तोड़ा दम

यह भी पढ़ें: अस्‍पताल देरी से जाने और लक्षणों की अनदेखी के कारण गंभीर हालत में पहुंच रहे मरीज, जानिए विशेषज्ञों की राय

यह भी पढ़ें: कोरोना को हराने लगा हौसला, हिमाचल में कर्फ्यू के दौरान स्‍वस्‍थ होने की दर 75.50 फीसद हुई, देखिए आंकड़े