धर्मशाला, जेएनएन। Himachal Weather Update, हिमाचल प्रदेश में देर रात से भारी बारिश का दौर जारी है। सोमवार सुबह तक बारिश जारी रही। इस कारण जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। नदी नाले उफान पर हैं, कई जगह भूस्‍खलन से सड़कों पर आवाजाही भी प्रभावित हुई है। कई जगह भारी बारिश के कारण पानी लोगों के घरों में घुस गया है। मानसून की पहली भारी बारिश से लोगों ने राहत की सांस भी ली है। किसानों ने बारिश में ही खेतों का रुख कर लिया है। किसान धान की पनीरी लगाने में जुट गए हैं। वहीं हिमाचल में घूमने पहुंचे पर्यटक बारिश के कारण सुहावने हुए मौसम का खूब आनंद ले रहे हैं। मौसम विशेषज्ञों ने 17 जुलाई तक बारिश के साथ ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी की संभावना भी जताई है। इसके अलावा आज किन्‍नौर और लाहुल स्‍पीति को छोड़कर दस जिलों में भारी बारिश के साथ आंधी का अलर्ट जारी किया गया है। छह जिलों चंबा, कांगड़ा, बिलासपुर, शिमला, सोलन व सिरमौर में भारी बारिश को लेकर ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। 

घर में घुसा बारिश का पानी, सामान खराब

बद्दी। औद्योगिक क्षेत्र बद्दी के तहत पहाड़ी इलाके की पंचायत साई के पट्टा गांव में एक घर में बारिश का पानी घुसने से सामान खराब हो गया। घर के अंदर दो फीट तक पानी व मलबा भर गया। ऐसा इनके साथ पहले बार नहीं हुआ है पहले भी बरसात का पानी इनके घर में घुस जाता है व इसके लिए पीडि़त परिवार कई बार प्रशासन को अवगत करवा चुका है, लेकिन प्रशासन ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया है। आसाराम व मदनलाल का कहना है कि उसके घर के सामने से एक सड़क जाती है। सड़क की दोनों ओर न तो कोई नाला है और न ही डंगा बना हुआ है। इसके चलते बारिश का पानी घर में घुस जाता है। इस कारण मकान के गिरने का खतरा बना हुआ है। इस बारे में लोक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता व एसडीएम से कई बार शिकायत की है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उन्होंने सरकार व प्रशासन से सड़क किनारे डंगा व नाली बनाने की मांग की है और बारिश से हुए नुकसान पर आर्थिक मदद देने की भी गुहार लगाई है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma