नाहन, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh Snowfall, जिला सिरमौर के श्री रेणुकाजी हलके में तीन फीट बर्फ से ढके संगड़ाह-गत्ताधार-शिलाई मार्ग पर एक बरात को जेसीबी मशीन में ले जाना पड़ा। डिग्री कालेज संगड़ाह के साथ लगते जावगा से बरात सौंफर गांव जाने वाली थी। संगड़ाह से आठ किलोमीटर आगे बंद सड़क पर पहले तो जेसीबी से बर्फ हटाने की कोशिश की गई, मगर जब बात न बनी, तो जेसीबी में ही आधा दर्जन बाराती चले गए। गत रात लौटते वक्त दो मशीनों की व्यवस्था करनी पड़ी और सोमवार सुबह शादी की शेष रस्में हुई। दूल्‍हा व दुल्‍हन ने 30 किलोमीटर का सफर जेसीबी मशीन में किया।

बता दें कि उपमंडल संगड़ाह के ऊपरी हिस्सों में शनिवार व रविवार से हिमपात का सिलसिला जारी है और 2 से 3 फीट के करीब बर्फ के चलते डेढ़ दर्जन पंचायतों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित है। बर्फबारी के क्षेत्र की संगड़ाह-चौपाल, हरिपुरधार-नौहराधार, संगड़ाह-गत्ताधार व नौहराधार-संगड़ाह आदि सड़कों पर सोमवार को तीसरे दिन भी यातायात व्यवस्था ठप रही।

लोक निर्माण विभाग मंडल संगड़ाह में एक भी स्नोकटर नहीं है और जेसीबी से बर्फ हटाने में ज्यादा समय लग जाता है। इन सड़कों के बंद होने से 150 के करीब गाड़ियां जगह-जगह फंसी हैं, जिनमें दो दर्जन बर्फ देखने आए लोगों की बताई जा रही हैं। उपमंडल की डेढ़ दर्जन पंचायतों में हिमपात के चलते यातायात के साथ-साथ विद्युत व पेयजल आपूर्ति भी बाधित है।

लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियन्ता संगड़ाह रतन शर्मा ने कहा कि, बर्फ हटाने के लिए 8 जेसीबी मशीनों की व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें: मनाली-केलंग मार्ग पर मुलिंग पुल के पास हिमस्‍खलन, भारी हिमपात के बाद लाहुल घाटी में बढ़ा खतरा

यह भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में भारी हिमपात से बढ़ी मुश्किलें, 731 सड़कें बंद, तस्‍वीरों में देखिए दुश्‍वारियां

Edited By: Rajesh Kumar Sharma