मंडी, जागरण संवाददाता। Kullu Manikaran Cloudburst, हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्‍लू की मणिकर्ण घाटी में अलग अलग जगह पर बादल फटने की घटनाओं के बाद कूल्लु प्रशासन ने बिलासपुर तक अलर्ट जारी कर दिया है। अलर्ट के बाद लारजी बांध के गेट खोल दिए गए हैं, जबकि पंडोह से भी 15000 क्यूसेक लीटर पानी छोड़ा गया है। बिलासपुर में भी बांध प्रबंधन को अलर्ट पर रखा गया है। लोगों को नदी किनारे न जाने की हिदायत दी गई है। मंडी जिला सहित बिलासपुर में भी लोगों को सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा हमीरपुर व जिला कांगड़ा में भी नदी किनारे से दूरी बनाए रखने की सलाह दी गई है।

भारी बारिश के कारण मलाणा गांव भी शेष विश्व से कट गया है। यह मलाणा 2 प्रॉजेक्ट में फंसे कर्मचारियों और कुछ पर्यटकों को स्थानीय लोगों ने सुरक्षित निकाल लिया है। देर रात को हुई भारी बारिश के कारण मणिकर्ण से हर नदी नाला उफान पर है। वहीं ब्यास नदी का जलस्तर बढ़ा है। इसी को देखते हुए कूल्लु प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। इसके बाद लारजी और पंडोह बांध के गेट खोले गए हैं।

एसडीएम कूल्लू विकास शुक्ला ने बताया भारी बारिश के कारण जलस्तर बढ़ा है, इसलिए पंडोह, लारजी व बिलासपुर तक अलर्ट जारी किया गया है। मणिकर्ण में बचाव व राहत कार्य शुरू कर दिया गया है।

Koo App
खराब मौसम के चलते जिला शिमला और कुल्लू में भूस्खलन से लोगों के हताहत होने की सूचना अत्यंत दुःखद है। ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति एवं शोकग्रस्त परिवारजनों को संबल प्रदान करें। प्रदेशवासियों से आग्रह है कि बरसात के मद्देनजर भूस्खलन संभावित क्षेत्रों तथा नदी-नालों के करीब न जाएं। खराब मौसम को देखते हुए अनावश्यक सफर से बचें। सरकार और प्रशासन का सहयोग करें।
- Jairam Thakur (@jairamthakurbjp) 6 July 2022

Edited By: Rajesh Kumar Sharma