शिमला, राज्य ब्यूरो। Himachal Coronavirus News, सरकार ने कोरोना संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या को देखते हुए एमबीबीएस के चौथे वर्ष के 600 छात्रों, बीएससी नर्सिंग की तृतीय वर्ष की 2500 नर्सों, जीएनम तृतीय वर्ष की 600 प्रशिक्षु छात्राओं को कोविड-19 के लिए तैयार किए गए मेक शिफ्ट व दूसरे संस्थानों में तैयार किए गए वैक्लपिक स्वास्थ्य संस्थानों में सेवाएं देने के लिए तैयार रहना पड़ेगा। कोई भी सेवाएं देने से इंकार नहीं कर सकता है। इसके लिए सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के 4300 के स्टॉफ को मासिक मानदेय देने की घोषणा कर दी है। इन्हें प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर वरिष्ठ चिकित्सकों की देखरेख में कोरोना मरीजों का छह से सात घंटे की शिफ्ट में उपचार करना होगा।

इन्हें दिया जाएगा मानदेय

काेराेना डयूटी देने में सरकार एमबीबीएस छात्रों से लेकर जीएनएम व बीएसएम नर्सिंग छात्राओं को मासिक 3000 रुपये से लेकर 1500 रूपये मासिक मानदेय दिया जाएगा। सरकार एमबीबीएस काे 3000 रुपये, बीएससी की छात्राओं काे 1500 रुपये प्रति महा इंसेंटिव देगी।

5 हजार होंगे आक्सीजन युक्त बिस्तर

सरकार ने काेराेना मरीजाें की संख्या काे बढ़ता देख प्रदेश में 5000 आक्सीजन युक्त बिस्तरों की संख्या करने के आदेश जारी किए हैं। स्वास्थ्य विभाग अभी तक आसक्सीजन युक्त बिस्तरों की व्यवस्था कर चुका है। इसे ध्यान में रखते हुए विभाग ने अस्पतालाें में स्टाॅफ की भी अतिरिक्त व्यवस्था का इंतजाम कर दिया है।

दस दिनों के भीतर 3 हजार और 20 दिनों में 5 हजार बिस्तरों की सुविधा होगी

सरकार ने अगले दस दिन में बिस्तरों की संख्या 3 हजार बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके अलावा 20 दिन में 5 हजार अतिरिक्त बिस्तरों की सुविधा तैयार का प्रयास किया है। आला आधिकारिक बैठक में सरकार ने अगले 20 दिनों के लिए संक्रमितों की संभावित संख्या को देखते हुए योजना तैयार की है। दस दिन में काेराेना मरीजाें की संख्या काे देखते हुए 3 हजार आक्सीजन युक्त बिस्तरों की व्यवस्था करने को कह दिया है। इसमें कांगड़ा के पराैर में 500 बिस्तर, मंडी में 200 बिस्तर, ऊना में 200 बिस्तर, नालगढ़ में 200 बिस्तर, नैरचाैक में 100 बिस्तराें की व्यवस्था होगी। इन सब स्थानों में मंगलवार से बिस्तराें की अतिरिक्त व्यवस्था कर दी जाएगी। इसके अलावा 20 अतिरिक्त आईसीयू बिस्तरों की व्यवस्था भी होगी। इसके लिए सरकार ने जिलाें काे पर्याप्त धनराशि जारी कर दी है। अस्पतालों में 1326 काेराेना संक्रमित मरीज आक्सीजन पर है।

आक्सीजन काे लेकर स्वास्थ्य विभाग ने तैयार की इनवेंट्री

स्वास्थ्य विभाग ने आक्सीजन की सप्लाई काे सुचारू बनाने के लिए अलग से इनवेंट्री तैयार कर ली है। केंद्र सरकार से खाली सिलेंडर मिलने तक सरकार ने अपने स्तर पर आक्सीजन के खाली सिलेंडराें की व्यवस्था कर दी है। गगरेट में बंद पड़े आक्सीजन प्लांट को दोबारा शुरू करने की अनुमति प्रदान की है। ऐसा करने से 600 आक्सीजन सिलेंडराें की व्यवस्था होगी। इसी तरह से अन्य बंद पड़े आक्सीजन प्लांटों को खोलने की अनुमति प्रदान की है। ऐसा करने से स्वास्थ्य विभाग को 2500 खाली सिलेंडर प्राप्त हुए।

क्या कहते हैं अनिल खाची

हिमाचल सरकार के मुख्य सचिव अनिल खाची का कहना है प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सरकार ने 4300 एमबीबीएस, नर्सिज, जीएनएम, जूनियर और सिनियर रेजिटेंड डाॅक्टराें की सेवाएं लेने का फैसला लिया है, ताकि अस्पतालाें में कोरोना संक्रमितों का इलाज करने में किसी प्रकार की कोई कमी न हो।