Move to Jagran APP

सचखंड एक्सप्रेस में आग की अफवाह से अफरा-तफरी, जल्दबाजी में उतरकर भागे यात्री; दो लोग ट्रेन की चपेट में आकर मरे

Sonipat Train Accident सोनीपत के हरसाना कलां रेलवे स्टेशन पर सचखंड एक्सप्रेस में आग की अफवाह से ट्रेन में हड़कंप मच गया। इस दौरान यात्रियों ने चेन पूलिंग की उसके बाद ट्रेन से यात्री कूद गए। हादसा तब और भयाभह हो गया जब यात्री कूदे तो उनमें से दो यात्री ट्रेन की चपेट में आए गए। इससे उनकी मौत हो गई।

By Jagran News Edited By: Geetarjun Tue, 18 Jun 2024 09:09 PM (IST)
पोस्टमॉर्टम हाउस पर पहुंचे परिजन और पुलिस।

जागरण संवाददाता, सोनीपत। नांदेड साहिब से अमृतसर जा रही ट्रेन नंबर 12715 में सोमवार रात को हरसाना कलां स्टेशन के पास आग लगने की अफवाह फैल गई। कोच में धुआं फैलने के कारण यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई और उन्होंने चेन पुलिंग करके ट्रेन को रोक दिया। गति धीमी होते ही यात्री ट्रेन से कूदने लगे।

इसी दौरान दो यात्री ट्रेन की चपेट में आ गए, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इनमें से एक की पहचान कैथल के पूंडरी के रहने वाले 18 वर्षीय युवक मयंक के रूप में हुई। वह महाराष्ट्र के औरंगाबाद से करनाल जा रहा था और जनरल कोच में सवार था।

एक ही यात्री की हुई पहचान

वह जागरण में भजन गायक का काम करता था, जबकि दूसरे यात्री की पहचान नहीं हो पाई है। सूचना मिलने के बाद सोनीपत से जीआरपी की टीम मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक ट्रेन रवाना हो चुकी थी। इस ट्रेन का सोनीपत में ठहराव नहीं है।

जानिए कहां लगी थी आग

बताया जा रहा है कि राठधना और हरसाना कलां स्टेशन के मध्य रेलवे ट्रैक के किनारे खेतों में फसल अवशेष और झाड़ियों में आग लगा रखी थी क्योंकि अभी धान की रोपाई का समय है और किसान खेतों से अवशेष व किनारे पर झाड़ियों को हटा रहे हैं। धुआं हवा के साथ वहां से गुजर रही ट्रेन तक पहुंच गया, जिससे यात्रियों को लगा कि किसी कोच में आग लग गई है।

शोर मचाया कि ट्रेन में आग लगी

इसी बीच लोगों ने शोर मचा दिया कि ट्रेन में आग लग गई है। इससे यात्रियों में हड़कंप मच गया और उन्होंने चेन पुलिंग कर दी। सचखंड एक्सप्रेस का हरसाना कलां से निकलने का समय दोपहर में एक बजकर 46 मिनट का है, लेकिन सोमवार को यह ट्रेन करीब सात घंटे देरी से चल रही थी। जो दिल्ली से सात बजकर 39 मिनट पर रवाना हुई और करीब नौ बजे हरसाना कलां पहुंची थी।

हालांकि दो तीन मिनट के बाद ट्रेन रवाना हो गई थी। पांच दिन पहले झारखंड के लातेहार में भी रांची-सासाराम इंटरसिटी एक्सप्रेस में आग लगने की अफवाह फैलने के बाद यात्री ट्रेन से कूद गए। कई यात्री एक मालगाड़ी की चपेट में आ गए। इस घटना में चार लोगों की मौत हुई थी।

हरसाना कलां स्टेशन पर दो लोगों की मौत की जानकारी मिली थी। स्वजन का कहना है कि आग की अफवाह के बाद ट्रेन को रोका गया था। भगदड़ के दौरान कुछ यात्री रेलवे लाइन की तरफ कूद गए, जो सामने से आ रही ट्रेन की चपेट में आने से दो की मौत हुई है। दूसरे यात्री की पहचान के प्रयास किए जा रहे हैं। मामले की जांच की जा रही है। एक शव का पोस्टमार्टम कर स्वजन को सौंप दिया गया है। -अजय कुमार, जांच अधिकारी, जीआरपी

हादसे की सूचना के बाद आरपीएफ की टीम मौके पर पहुंची तो कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं मिला। ट्रेन में आग लगने की अफवाह फैलने की अभी तक किसी ने भी पुष्टि नहीं हुई है। अभी मृतक के स्वजन ने ही अफवाह की जानकारी दी है। मृतकों के पास यात्रा टिकट भी नहीं मिला है। मरने वाले यात्री सचखंड एक्सप्रेस की चपेट में आए हैं या किसी दूसरी ट्रेन के, यह भी अभी साफ नहीं हो पाया है। मामले की जांच के बाद ही सच सामने आएगा। -संगम यादव, आरपीएफ पोस्ट प्रभारी