सिरसा, जागरण संवाददाता। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने मंगलवार को धर्मनगरी कुरुक्षेत्र से जब बटन दबाकर सिरसा के मेडिकल कालेज का शिलान्यास किया। सिरसा में मेडिकल कालेज बनने की मांग लंबे समय से की जा रही थी। मेडिकल कालेज का शिलान्यास होने के साथ ही अब इसकी निर्माण प्रक्रिया में तेजी आएगी।

सिरसा बाइपास पर चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय के सामने बनना प्रस्तावित है मेडिकल कालेज

सिरसा बाइपास पर चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय के सामने कृषि विभाग की करीब 22 एकड़ भूमि पर 1090 करोड़ रुपये की लागत से मेडिकल कालेज बनेगा। सिरसा से अग्रोहा स्थित मेडिकल कालेज की दूरी करीब 70 किलोमीटर है वहीं पंजाब में बठिंडा में स्थित मेडिकल कालेज की दूरी करीब 100 किलोमीटर है। सिरसा में मेडिकल कालेज शुरू होने के बाद सिरसा जिले के लोगों को ही नहीं बल्कि साथ लगते पंजाब व राजस्थान के लोगों को भी बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिल सकेंगी।

सुधरेंगी स्वास्थ्य सेवाएं, बचेगी घायलों की जान

मेडिकल कालेज बनने से चिकित्सा सुविधाएं बेहतर होगी। वर्तमान में सिविल अस्पताल में सर्जन न होने के कारण घायलों को रैफर किया जाता है। अनेक घायलों की रास्ते में जान चली जाती है। सिरसा में मेडिकल कालेज शुरू होने के बाद घायलों को तुरंत इलाज की सुविधा मिल सकेगी। इसके साथ ही मेडिकल कालेज में मेडिकल के छात्रों के लिए 100 सीटें होंगी। इसके साथ ही नर्सिंग कालेज भी बनेगा। मेडिकल कालेज में एमबीबीएस छात्र और इंटर्न हास्टल ब्लाक बनाया जाएगा। लड़कों के लिए अलग (300 क्षमता) और लड़कियों के लिए (200 क्षमता) 500 छात्रों और 100 इंटर्न को डबल सीटिंग में आवास प्रदान करने का प्रस्ताव दिया गया है। नर्सिंग कन्या छात्रावास में 250 छात्राओं को डबल शेयरिंग में आवास उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है।

मेडिकल कालेज में होंगे ये वार्ड

मेडिकल कालेज में एनाटामी, फिजियोलाजी, बायोकेमिस्ट्री, पैथोलाजी, माइक्रोबायोलाजी, फार्माकोलाजी, फोरेंसिक मेडिसिन एवं टॉक्सिकोलॉजी और कम्युनिटी मेडिसन जैसे विभाग शामिल होंगे। इसके साथ-साथ आपातकालीन चिकित्सा, हडडी रोग, बाल रोग, मनोचिकित्सा, सामान्य शल्य चिकित्सा, श्वसन चिकित्सा, नेत्र विज्ञान, ओटोरहिनालरिंजोलाजी, सामान्य चिकित्सा, त्वचा विज्ञान, प्रसूति एवं स्त्री रोग, बर्न यूनिट, आईसीयू, पीआईसीयू, आईसीसी एनआईसीयू, जेल वार्ड, एआरटी वार्ड और निजी वार्ड भी होंगे।

22 एकड़ जमीन पर बनेगा मेडिकल कालेज

1090 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाला मेडिकल कालेज सिरसा बाइपास पर चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय के दूसरी तरफ कृषि विश्वविद्यालय की करीब 22 एकड़ जमीन पर बनेगा। यहां 1200 वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था होगी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा भूमि का चयन किया जा चुका है। वर्तमान में इस भूमि पर मेडिकल कालेज के संबंध में बोर्ड भी लगाया गया है। फिलहाल यह जमीन खाली पड़ी है। यहां प्रस्तावित मेडिकल कालेज सिरसा बाइपास पर होने के कारण समूचे जिले से सीधा तौर पर जुड़ा है। हाईवे पर होने वाले हादसों में घायल सीधे मेडिकल कालेज में पहुंच सकेंगे। हालांकि चत्तरगढ़पट्टी एरिया में रेलवे फाटक है, जिस कारण फाटक बंद होने पर समस्या आ सकती है। परंतु मुख्यमंत्री ने इस फाटक की समस्या के समाधान के लिए ओवरब्रिज व अंडर ब्रिज बनाने का प्रावधान भी रखा है।

सेंटर आफ एरिया होने के कारण 100 किलोमीटर एरिया के लोगों को होगा लाभ

बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। मेडिकल कालेज के भवन बनने में कुछ वर्ष लगेंगे लेकिन सेंटर आफ एरिया होने के कारण आसपास के सौ किलोमीटर एरिया के लोगों को लाभ होगा। पंजाब के मानसा, राजस्थान के हनुमानगढ़, भादरा सहित सिरसा जिले के लोग मेडिकल कालेज की सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। मेडिकल कालेज सिरसा जिले की पुरानी मांग थी। - डा. मनीष बंसल, सिविल सर्जन

Edited By: Naveen Dalal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट