अमित सैनी, रेवाड़ी

रेवाड़ी-रोहतक लाइन पर आने वाले दस दिनों में इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ने लगेगी। यह एक बड़ा तोहफा होगा, दिवाली पर शहरवासियों के लिए दो और बड़ी खुशखबरी हैं। रेवाड़ी-दिल्लीलाइन पर भी इस दिसंबर में विद्युतीकरण का काम पूरा हो जाएगा। इसके साथ ही अगले साल मार्च तक रेवाड़ी-सादुलपुर लाइन पर महेंद्रगढ़ तक बिजली की लाइन बिछ जाएगी। रेलवे के आला अधिकारियों ने इसकी पुष्टि कर दी है। रेवाड़ी-सादुलपुर लाइन का छूटा टेंडर

रेलवे की तरफ से डीजल इंजनों का अध्याय भी इतिहास के पन्नों में समेटने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। शनिवार को मुख्य सुरक्षा आयुक्त शैलेश कुमार पाठक ने रेवाड़ी-रोहतक लाइन का निरीक्षण किया था। इस लाइन पर 10 दिनों में बिजली से ट्रेन दौड़ने लगेगी। रेवाड़ी-दिल्ली लाइन के लिए भी अब ज्यादा इंतजार करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। रेलवे की तरफ से इसके लिए दिसंबर तक का टॉरगेट रखा गया है। विभागीय अधिकारियों की माने तो तय समय में इसी साल के अंत तक इस लाइन पर भी काम पूरा हो जाएगा। इसके साथ ही बड़ा तोहफा रेवाड़ी-सादुलपुर लाइन का मिलेगा। इस लाइन पर भी विद्युतीकरण का टेंडर छोड़ दिया गया है। रेलवे के आला अधिकारियों की माने तो इस लाइन पर फाउंडेशन का कार्य 10 नवंबर से शुरू हो जाएगा। इसके साथ ही अगले साल मार्च तक महेंद्रगढ़ तक का कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। यह दूरी रेवाड़ी से करीब 50 किमी की रहेगी। हैदराबाद की एक फर्म को टेंडर दिया गया है। इधर अलवर लाइन पर मथुरा तक विद्युतीकरण का कार्य काफी समय पहले पूरा हो चुका है। इस ट्रैक पर बस इलेक्ट्रिक ट्रेन के दौड़ने का इंतजार किया जा रहा है।

----------------- बढ़ेगी ट्रेनें, घटेगा प्रदूषण

इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने के दो बड़े फायदे रहेंगे। रेलवे के मुख्य सुरक्षा आयुक्त की माने तो रेलवे के कुल बजट का 19 प्रतिशत एनर्जी में खर्च होता है तथा इस 19 प्रतिशत में 11 प्रतिशत डीजल इंजन के फ्यूल पर खर्च होता है। विद्युतीकरण होने से निश्चित तौर पर रेलवे को आर्थिक तौर पर बड़ा लाभ होगा। इसके साथ ही डीजल जलने से होने वाले प्रदूषण से भी मुक्ति मिलेगी। विद्युतीकरण होने के बाद निश्चित तौर पर ट्रेनों की संख्या भी बढ़ेगी।

----------------

विद्युतीकरण को लेकर रेलवे की ओर से गंभीरता से काम किया जा रहा है। रेवाड़ी-रोहतक लाइन का काम पूरा हो गया है तथा रेवाड़ी-दिल्ली लाइन का विद्युतीकरण का कार्य दिसंबर में पूरा हो जाएगा। मार्च तक हम सादुलपुर लाइन पर महेंद्रगढ़ तक इलेक्ट्रिक लाइन बिछा देंगे। रेलवे अभी तक 34 हजार किलोमीटर ट्रैक का विद्युतीकरण कर चुका है।

-एचसी मीणा, चीफ प्रोजेक्ट डायरेक्टर

Edited By: Jagran