पानीपत, जागरण संवाददाता। आयकर विवरणी दाखिल करने में आयकरदाता अनेक समस्याओं से जूझते हैं। रिटर्न फाइल करने में काफी समय लग जाता है। अब आयकर विभाग कामन रिटर्न (विवरणी) तैयार करने की योजना पर काम कर रहा है। इसके लिए करदाताओं से सुझाव मांगे गए हैं।

ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है

फिलहाल आयकरदाता इनकम टैक्स रिटर्न (आइटीआर) एक से सात तक फार्म में दाखिल करते हैं। आयकर विभाग ने एक ड्राफ्ट तैयार कर करदाताओं से कामन रिटर्न के लिए सुझाव मांगे हैं। इसमें आइटीआर एक से छह तक को मिलाकर एक कामन रिटर्न बनाने की योजना है। इस कामन रिटर्न का जो ड्राफ्ट तैयार किया गया है, उसके मुताबिक इसका सबसे अच्छा पहलू यह है कि रिटर्न के पहले पेज पर ही कुछ सवाल होंगे।

अगर करदाता ने किसी सवाल का जवाब नहीं में दिया तो वह पूरा हिस्सा रिटर्न से हट जाएगा और उसके किसी भी हिस्से में कोई भी जानकारी देने की जरूरत नहीं रहेगी। ज्यादातर विकसित देशों में एक ही रिटर्न फाइल किया जाता है, इसलिए उन देशों की तर्ज पर अपने यहां भी एक कामन आयकर रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को अपनाने की ओर कदम बढ़ाया जा रहा है।

चैरिटेबल संस्थाओं व ट्रस्ट आइटीआर 7 दाखिल कर रहे हैं। इस रिटर्न को इस कामन रिटर्न में शामिल नहीं किया जाएगा। इसके लागू होने के बाद भी आइटीआर एक और आइटीआर चार वैकल्पिक रूप से प्रभावी रहेंगे। करदाता इन दोनों में कोई भी रिटर्न फाइल कर सकेगा। करदाताओं के सुझाव मिलने के बाद केंद्रीय स्तर से इस रिटर्न को अंतिम रूप दिया जाएगा। जब इसे अधिसूचित किया जाएगा, उसके बाद ही यह लागू होगा।

"यह ड्राफ्ट आयकर विभाग की वेबसाइट पर मौजूद है। 15 दिसंबर तक ई मेल के जरिए सुझाव दिए जा सकते हैं।" 

अंकुर बंसल, सीए आयकर टैक्स सलाहकार पानीपत।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट