अंबाला, [दीपक बहल]। कोरोना काल से बंद पड़े जनसाधारण टिकट बुकिंग सेवा (जेटीबीएस) अब रेलवे खोलने की तैयारी कर रहा है। जेटीबीएस खुलने से यात्रियों को राहत मिलेगी, जबकि भीड़भाड़ वाले स्टेशनों पर यात्रियों को लाइन में लगने की अब जरूरत नहीं रहेगी। 18 महीने से जेटीबीएस बंद होने से लोगों को रोजगार का भी संकट हो गया था। देश भर में जेटीबीएस से लाखों टिकटें प्रतिमाह जारी होती हैं, जिन पर एक रुपया कमीशन एजेंसी मालिक के खाते में जाता है। रेलवे ने अब इन जेटीबीएस की स्थिति और रिकार्ड खंगालना शुरू किया है, ताकि पता चल सके कि इनके ऊपर कहीं कोई रिकवरी तो नहीं।

अंबाला रेल मंडल के वरिष्ठ वाणिज्यक प्रबंधक ने इस संबंध में 20 सितंबर को लिखित आदेश जारी किए हैं। 27 सितंबर 2021 तक रिपोर्ट मांगी थी। संभव है कि अक्टूबर माह में जेटीबीएस को शुरू करने के लिए रेल मंत्रालय हरी झंडी दे देगा।

बता दें कि मार्च 2020 के बाद जेटीबीएस भी बंद कर दिए गए थे। भारतीय रेल ने ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया था, लेकिन जनरल टिकटों की बिक्री शुरू नहीं की थी। हाल ही में रेलवे ने अब सामान्य ट्रेनों को भी पटरी पर उतार दिया, जिसकी टिकट अनरिजर्व टिकट सिस्टम (यूटीएस) से मिलनी शुरू हो गई है। अब त्योहारी सीजन शुरू होने जा रहा है, जिसके बाद स्टेशन पर भीड़ भी होगी। यही कारण है कि रेलवे अब जेटीबीएस शुरू करने की तैयारी में है ताकि टिकट के लिए यात्रियों को स्टेशन पर लंबी लाइनों में न लगना पड़े। यात्री बाहर से ही टिकट खरीदकर स्टेशन पर एंट्री करेंगे।

बिजनेस बढ़ाने पर फोकस, सीओएम ने मीटिंग

कोरोना काल में घाटे से उबरने के लिए अब रेलवे सिर्फ जेटीबीएस ही शुरू करने नहीं जा रहा, जबकि बिजनेस बढ़ाने की भी तैयारी कर रहा है। बुधवार को उत्तर रेलवे के चीफ आपरेटिंग मैनेजर ने अंबाला, दिल्ली, लखनऊ, मुरादाबाद और फिरोजपुर मंडल के अधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग से मीटिंग ली। कुछ मंडलों में सीमेंट की लोडिंग को लेकर आ रही दिक्कतों को दूर करने की बात कही, वहीं माल ढुलाई बढ़ाने के लिए भी आदेश दिए। उद्योगपतियों और कारोबारियों से अधिकारी मीटिंंग करें, ताकि वे रेल के माध्यम से अपना सामान भेजें।

तैयारी की जा रही है : सीनियर डीसीएम

सीनियर डीसीएम हरिमोहन ने बताया कि मुख्यालय से इस संबंध में गाइडलाइन आई हैं। जेटीबीएस को लेकर तैयारी की जा रही है।

Edited By: Anurag Shukla