कुरुक्षेत्र, जेएनएन। गांव झांसा की अनाज मंडी में मंगलवार दोपहर को खाद्य आपूर्ति विभाग के गेहूं के चट्टों में आग लग गई। इससे मंडी में हड़कंप मच गया। आग इतनी भयानक थी कि देखते देखते गेहूं के तीन चट्टों को अपनी चपेट में ले लिया। आग लगने की सूचना तुरंत खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ फायर ब्रिगेड को दी गई। अनाज मंडी के मजदूरों और लोगों ने अपने स्तर पर पानी और मिट्टी से आग बुझाने का प्रयास किया। फायर ब्रिगेड के पहुंचने तक लोगों ने आग को नियंत्रण में रखा।

खाद्य आपूर्ति विभाग ने गांव झांसा की अनाज मंडी में ही गेहूं के चट्टे लगा रखे हैं। इन चट्टों पर मंगलवार की दोपहर का आग लग गई। आग लगने की सूचना मिलते ही खाद्य आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर लवनीश अरोड़ा, इंस्पेक्टर रोहित कुमार व गांव के प्रमुख व्यक्ति पुनीत मल सहित मंडी प्रधान ज्ञान चंद गोयल मौके पर पहुंचे। आग ने विकराल रूप ले लिया और तीन चट्टों को अपनी चपेट में ले लिया। बताया जा रहा है कि आग चलते गेहूं के करीब 4500 कट्टे जल गए।

तीन गाड़ियों की मदद से पाया गया काबू

करीब 40 मिनट बाद शाहाबाद, पिहोवा और थानेसर अग्निशमन केंद्र से पहुंची तीन गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। गेहूं चट्टों में आग अंदर तक जाने से तीनों गाड़ियों ने एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। अधिकारी अब नुकसान के आंकलन में जुटे हैं। अभी तक आग लगने के कारणों की जानकारी नहीं मिली है।

खाद्य आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर लवनीश अरोड़ा ने बताया कि झांसा मंडी में गेहूं के चट्टे में आग लगने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे थे। आग पर काबू पा लिया गया है। अब नुकसान का आंकलन कर रहे हैं। प्राथमिक दृष्टता में करीब 4500 कट्टे जलना सामने आया है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


यह भी पढ़ें: बेटी पूरे कर रहे टैक्सी चालक पिता के ख्‍वाब, भाई ने दिया साथ तो कामयाबी को बढ़े हाथ

यह भी पढ़ें: पानीपत में बढ़ रहा कोरोना, बच्‍चों को इस तरह बचाएं, जानिये क्‍या है शिशु रोग विशेषज्ञ की सलाह

यह भी पढ़ें: चोट से बदली पानीपत के पहलवान की जिंदगी, खेलने का तरीका बदल बना नेशनल चैंपियन

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप