करनाल, जेएनएन। टीम इंडिया के स्‍टार बल्‍लेबाज शिखर धवन संकट में फंसे अपने दोस्‍त की मदद के लिए आगे आए। वह दोस्‍त की कोरोना संक्रमित मां के इलाज में दिक्‍कत होने के बाद आगे आए और इस बारे में  ट्वीट किया। उन्‍होंने ट्वीट में संकट में फंसे लोगों के मसीहा बालीवुड स्‍टार सोनू सूद, हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज को टैग किया। इसके बाद सोनू सूद मदद के लिए आगे आए हैं।

शिखर ने सोनू सूद, हरियाणा सीएम मनोहरलाल और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज को टैग कर ट्वीट किया

दरअसल, कोरोना संक्रमण की संवेदनशील स्थिति के बीच लोगों को जीवन रक्षक संसाधनों की कमी से जूझना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा दिक्कत उन नियम-कायदों से रही है, जिनके फेर में फंसने के कारण मरीजों की सांसों पर संकट कायम है। करनाल में उपचार करा रहीं दिल्ली निवासी जयकुश की मां के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ, जिन्हें एक अदद एकटेमरा इंजेक्शन के लिए दर-दर गुहार लगानी पड़ी। मशहूर हस्तियों ने उनकी मदद के लिए ट्वीट किए लेकिन राहत नहीं मिली। ऐसे में अब टीम सोनू सूद ने उनसे संपर्क साधकर पूरी मदद का भरोसा दिलाया है। इससे जयकुश में नए मनोबल का संचार हुआ है।

क्रिकेटर शिखर धवन का ट्वीट।

जयकुश की माता करनाल करा रहीं इलाज, एकटेमरा इंजेक्शन मिलने में फंस रहा कानून का पेंच

मूल रूप से दिल्ली निवासी जयकुश की माता कोरोना संक्रमित हैं। तबीयत ज्यादा बिगड़ने और दिल्ली में आवश्यक संसाधन नहीं मिलने पर वह जयकुश उन्हें सोमवार को करनाल ले आए। रेलवे रोड स्थित एक निजी अस्पताल में उन्हें दाखिल करा दिया।

यहां चिकित्सकों ने उनकी स्थिति को देखते हुए मंगलवार को स्पष्ट किया कि उनके लिए एकटेमरा इंजेक्शन की आवश्यकता है। चूंकि कोरोना संक्रमण लगातार फैलने के चलते कुछ समय से रेमडीसिविर और एकटेमरा इंजेक्शनों को लेकर चारों तरफ मारामारी की स्थिति बनी है, लिहाजा शासन प्रशासन स्तर पर इनकी उपलब्धता के लिए विशेष प्रक्रिया निर्धारित की गई है। इसके तहत जिले व प्रांतीय स्तर पर कमेटियां गठित की गई हैं।

टीम सोनू सूद ने उठाया पीड़ित को मदद दिलाने का बीड़ा

जयकुश ने बताया कि उन्होंने निर्धारित नियमों का पालन करते हुए डीसी और कमेटी को एक नहीं बल्कि, तीन बार प्रार्थना पत्र भेजा ताकि उन्हें अपनी मां के लिए समय से एकटेमरा इंजेक्शन उपलब्ध हो जाए लेकिन हर बार उनका आवेदन निरस्त कर दिया गया। हालांकि, आधिकारिक रूप से इसका कारण स्पष्ट नहीं किया गया लेकिन उन्हें पता चला कि मूल रूप से दिल्ली से होने के कारण नियमों को आधार बनाते हुए उनका प्रार्थना पत्र स्वीकार नहीं किया गया।

जयकुश ने फोन पर वार्ता में बताया कि, इससे परेशान होकर उन्होंने बुधवार को फोन पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से भी बात की लेकिन उन्होंने दो टूक कहा कि कमेटी का निर्णय ठीक है। जयकुश ने बताया कि उनकी मां का आक्सीजन स्तर 43 पर आ चुका है। इससे उनकी जान को खतरा है।

क्रिकेटर शिखर धवन और सोनू सूद ने की अपील

जयकुश ने बताया कि सभी रास्ते बंद होते देख उन्होंने अपने परिचित मशहूर क्रिकेटर शिखर धवन को फोन किया। इसके अलावा फिल्म अभिनेता सोनू सूद से भी गुहार लगाई। दोनों ने ट्विटर पर उनकी मदद के लिए अपील भी जारी की लेकिन वीरवार शाम तक स्थिति यथावत रही। वहीं करनाल में टीम सोनू सूद की ओर से समाजसेवी प्रवेश गाबा ने भी उनसे संपर्क किया। इससे उम्मीद बंधी है कि अब उनकी मदद हो जाएगी। साेनू सूद की टीम पूरे मामले में सक्रिय हो गई है और जयकुश को मदद का भरोसा दिलाया है।