पानीपत/करनाल, जेएनएन। दक्षिण हरियाणा को पानी पिलाने वाली आवर्धन नहर गांव रांवर के पास रविवार अलसुबह करीब चार बजे टूट गई। पानी के तेज बहाव ने दरार को लगभग 50 फीट चौड़ा कर दिया। पानी रांवर गांव में घुसने से अफरा-तफरी मच गई। ग्रामीण छतों पर चढ़ गए।

उधर, इससे पानी आगे नहीं जा सका और भिवानी में पानी की किल्लत हो गई है। डीसी निशांत यादव मौके पर पहुंचे और नहर को पाटने का काम शुरू कराया। यमुनानगर से आवर्धन नहर के पानी को बंद करवाया गया।

नहर में 50 फीट कटाव, घरों में पानी घुसा तो छतों पर चढ़े लोग

रविवार को आवर्धन नहर टूटने से गांव रांवर और आसपास के क्षेत्र में लगभग चार-पांच फुट तक पानी भर गया। नहर की पटरी को दुरुस्त करने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों ने यमुनानगर से नहर का पानी बंद करवाया। उसके बाद भी नहर का पानी कम होने में आठ से दस घंटे का समय लग गया। तब तक नहर में हुए करीब 50 फीट के कटाव में जेसीबी व मजदूरों की मदद से प्लास्टिक के कट्टों में मिट्टी भरी गई ताकि हजारों कट्टे एक साथ पटरी पर लगाए जा सके और तटबंध की मरम्मत हो सके। नहर का पानी कम होते ही प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में जेसीबी, ट्रैक्टर-ट्राली, मिट्टी के डंपरों, क्रेन जैसे संसाधनों, मनरेगा मजदूरों व ग्रामीणों की सहायता लेते हुए नहर की पटरी को दुरुस्त करने का कार्य शुरू हुआ।

 Karnal canal

ग्रामीणों में मची अफरा-तफरी, घरों में सामान खराब

घरों के अंदर पानी घुसने से ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गई। ग्रामीण घरों की छतों पर चढ़ गए। पानी घुसने से घरों का सामान खराब हो गया। गलियों में करीब चार-चार फीट पानी खड़ा हुआ था। आवर्धन नहर के तटबंध पर पहुंचकर ग्रामीणों ने प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी सूचना दी। विधायक हर¨वद्र कल्याण, जिला उपायुक्त निशांत कुमार, डीएसपी रामदत्त, मधुबन थाना प्रभारी तरसेम चंद, नहर विभाग के एसडीओ नितिन कुमार व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए।

 Karnal canal

कच्‍चे मकानों की दीवारें गिरी

आवर्धन नहर में घुसे पानी के कारण एक कच्चे मकान की दीवार ढह गई। गनीमत रहीं कोई जानमाल का नुकसान नहीं हुआ। दूसरी ओर पानी के साथ बहकर आए सांप ने दो लड़कों को डंस लिया। जिसके बाद परिजनों में दहशत का माहौल पैदा हो गया। मौके पर पहुंचें डॉक्टरों की टीम ने दोनों को प्राथमिक उपचार दिया। डॉक्टरों के मुताबिक, पानी वाला सांप ज्यादा जहरीला नहीं था। जिससे बच्चों की जान बच गई।

 Karnal canal

गांव तक आ गया पानी

आवर्धन नहर का तटबंध टूटा और पानी गांव में घुस गया। पानी ने गांव में काफी हद तक नुकसान पहुंचाया। सरपंच दरबारा सिंह के मुताबिक, घरों में पानी घुसने के साथ ही बंटी पुत्र बीराराम के कच्चे मकान ढह गई। इस हादसे में कोई जान माल का नुकसान नहीं हुआ। इसके अतिरिक्त पानी के साथ एक सांप बहकर गांव की तरफ आया और गांव के राकेश कुमार और रमेश कुमार को काट लिया। गांव में पहुंची डाक्टरों की टीम ने दोनों को ट्रीटमेंट दिया। डाक्टरों के मुताबिक, पानी में बहकर आए जिस सांप ने बच्चों को काटा है, वह ज्यादा जहरीला नहीं था। दोनों का उपचार किया गया है घबराने वाली कोई बात नहीं है।

 Karnal canal

स्थिति पर नियंत्रण : उपायुक्त

डीसी निशांत यादव ने बताया कि आवर्धन नहर में सुबह एक सुराख होने के कारण पानी के बहाव की स्थिति तेज हो गई है, गांव के कुछ क्षेत्र में भी पानी चला गया है। गांव में जाने वाले पानी को सिंचाई विभाग व राजस्व विभाग व आपदा विभाग की टीम द्वारा नाके लगाकर काबू पा लिया गया है। अभी स्थिति नियंत्रण में है। डेरा सच्चा सौदा के अनुयायियों ने पटरी को बंद करने सहयोग किया।

नुकसान की रिपोर्ट सरकार को भेजने के निर्देश

विधायक हरविंद्र कल्याण ने गांव की स्थिति का जायजा लिया और ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि शासन व प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों को हरसंभव सहायता दी जाएगी। विधायक ने अधिकारियों को गांव में हुए नुकसान की रिपोर्ट तैयार कर सरकार को भेजने के निर्देश जारी कर दिए है।

नहर का होगा नवीनीकरण 

आवर्धन नहर के नवीनीकरण का कार्य इस साल नवंबर माह तक शुरू किया जाएगा। जगह जगह नहर की पटरियों की हालत खस्ता होने और इसकी क्षमता बढ़ाए जाने को लेकर नवीनीकरण किया जाना है।

इस कार्य पर 489 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। नहरी विभाग की ओर से नवीनीकरण के कार्य का प्लान तैयार किया जा रहा है। ताकि नवंबर माह तक यह कार्य शुरू कर दिया जाए। इस नहर का पानी साउथ हरियाणा में जाता है। रविवार को करनाल के रांवर गांव के पास आवर्धन नहर की करीब 50 फीट पटरी टूट जाने से यह नहर फिर चर्चाओं में आई। नहरी विभाग को आवर्धन नहर की पटरियों की खस्ताहाल होने के बारे में पता है। यही वजह है कि इसका नवीनीकरण करने पर चर्चा हुई थी। इस नहर में पहले 4500 क्यूसिक पानी बहता था। लेकिन नहर की साल दर साल हालत खराब होने से इसकी क्षमता एक हजार क्यूसिक तक घट गई और इस समय नहर में 3200 क्यूसिक पानी बह रहा है। सिंचाई विभाग के एसई संजय राहर ने बताया कि नवंबर में नवीनीकरण का कार्य शुरू होगा।

मुनक हैड से भाखड़ा का पानी आवर्धन नहर में डाला

आवर्धन नहर का पानी रेवाड़ी व गुड़गांव जिले में जाता है। नहर की पटरी टूट जाने के बाद यमुनानगर से नहर में पानी बंद करा दिया गया। सप्लाई बंद होने से साउथ हरियाणा में पानी की किल्लत की चिंता सामने आ गई। लेकिन इसी बीच में तुरंत नहरी विभाग ने इस चिंता को समझते हुए करनाल के मुनक हैड पर इस कमी को दूर करने निर्णय लिया। मुनक हैड पर आवर्धन नहर, पश्चिमी यमुना नहर व भाखड़ा नहर आती है। यहां से जरूरत के मुताबिक भाखड़ा नहर का पानी आवर्धन नहर में डालकर साउथ हरियाणा की ओर रवाना कर दिया गया, ताकि साउथ हरियाणा में पानी की कमी नहीं हो।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस