जागरण संवाददाता, पंचकूला : गांव रत्तेवाली में पुलिस कर्मचारियों पर कुछ शरारती तत्वों ने हमला बोल दिया। पुलिस खनन को लेकर ग्रामीणों द्वारा किए जा रहे धरने को हटवाने के लिए पहुंची थी। मौके का फायदा उठाकर शरारती तत्वों ने पुलिस पर पथराव कर दिया, जिसमें 16 पुलिस कर्मचारियों और होमगार्ड जवानों को चोटें आई हैं। घटना के बाद पुलिस ने कुछ ग्रामीणों को हिरासत में ले लिया है। साथ ही घायल पुलिस कर्मचारियों का नागरिक अस्पताल सेक्टर-6 में इलाज चल रहा है। रत्तेवाली नदी में ठेकेदार ने 10 फुट खुदाई की मंजूरी लेकर 30 से 40 फुट खुदाई की थी। इसके बाद ठेकेदार द्वारा गड्ढों में पानी भर दिया गया। इसमें गिरने से एक पशु की मौत भी हो गई थी। गुस्साए ग्रामीण पहले भी धरने पर बैठे थे। इस कारण प्रशासन ने खनन लाइसेंस को सस्पेंड कर दिया था। कुछ ही दिन बाद प्रशासन ने जुर्माना वसूल कर सस्पेंड लाइसेंस को बहाल कर दिया और ठेकेदार की पूरी टीम रत्तेवाली नदी में खनन करने पहुंच गई। इसकी जैसे ही भनक ग्रामीणों को लगी, उन्होंने एकत्रित होकर खनन रुकवा दिया। ग्रामीणों ने ठेकेदार को चेतावनी दी कि वह किसी भी सूरत में खनन नहीं होने देंगे। ग्रामीणों ने स्टोन क्रेशर और स्क्रीनिग प्लांट के संचालकों को भी कह दिया है कि यदि किसी ने ग्रेवर खरीदा तो रत्तेवाली से टिप्परों को गुजरने नहीं देंगे। मामला तूल पकड़ने पर प्रशासन ने ग्रामीणों को धरने से जबरन उठाने का फैसला किया और मौके पर एसीपी राजकुमार और ड्यूटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में रामगढ़ विनोद कुमार, बरवाला चौकी इंचार्ज राजबीर, मौली चौकी इंचार्ज मनदीप सिंह समेत दो बड़ी गाड़ियों में होमगार्ड एवं पुलिस कर्मचारी गांव में स्थित पंचायत सचिवालय में पहुंचे, लेकिन जैसे ही ग्रामीणों को इसकी सूचना मिली बड़ी संख्या में वह मौके पर एकत्रित हो गए। पुलिस ने धरना उठाने की कोशिश की, तो पुलिस ने कर्मचारियों पर हमला कर दिया। पुलिस पर जमकर पथराव किया गया। महिला पुलिस को भी ग्रामीणों ने नहीं बख्शा। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को बवाल की सूचना मिली तो उन्होंने फोर्स को वापस बुला ली और हालात को काबू में किया। घटना के बाद तुरंत घायल पुलिस एवं होमगार्ड कर्मचारियों को नागरिक अस्पताल सेक्टर 6 पहुंचाया गया। डीसीपी मोहित हांडा ने घायल कर्मचारियों का हालचाल जाना। घटना में होमगार्ड हरकेश कुमार, होमगार्ड सुखविदर सिंह, होमगार्ड गुरदीप, एएसआइ जगदीश, दलबीर सिंह कांस्टेबल, अंकित कांस्टेबल, रोशन लाल हेड कांस्टेबल, प्रमोद हेड कांस्टेबल, सतीश कुमार कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल सोनू कुमार सहित अन्य को चोटें लगी है। गांव रत्तेवाली के आसपास सरकार की ओर से खनन करने के लिए लाइसेंस जारी किया हुआ है, लेकिन कुछ लोग पिछले कुछ दिनों से धरना लगाकर खनन नहीं होने दे रहे थे। जिसके बाद पुलिस को शिकायत मिली थी कि कुछ लोग अवैध वसूली के चक्कर में खनन होने से रोक रहे हैं। काफी दिनों से यह विवाद चल रहा था। पुलिस विवाद खत्म करवाने पहुंची, तो शरारती तत्वों ने हमला कर दिया। जिसमें पंचकूला पुलिस और होमगार्ड के 16 मुलाजिमों को चोटें लगी हैं। तीन पुलिस कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हैं। विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर 14 लोगों को हिरासत में लिया है।

-मोहित हांडा, डीसीपी, पंचकूला

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस