जागरण संवाददाता, पंचकूला : सिटी सर्विलांस प्रोजेक्ट के तहत नगर निगम पंचकूला द्वारा स्कोच अवॉर्ड के लिए आवेदन किया गया था। जिसमें नगर निगम को चयनित कर लिया गया है और अब लोगों की भागीदारी से पंचकूला को यह अवॉर्ड मिल पाएगा। पंचकूला में सबसे हाईटेक सर्विलांस सिस्टम लगा होने के चलते यह अवॉर्ड मिलने की संभावना है, लेकिन इसमें 15 प्रतिशत अंक लोगों की भागीदारी के हैं, जिसके तहत लोगों को ऑनलाइन वोट करना पड़ेगा, ताकि उनकी जागरूकता पता चल पाए। इसलिए वोट डॉट स्कोच डॉट इन पर जाकर पंचकूला के लिए वोट करना पड़ेगा। नगर निगम के अंतर्गत पड़ने वाले एरिया में गत वर्षो के दौरान महिलाओं से अपराध, मोबाइल छीनने, यातायात नियमों की अवहेलना करने के मामले सामने आने के बाद शहर भर में लोगों की सेफ्टी के लिए नगर निगम द्वारा अलग-अलग स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। तीन फेस में यह काम में किया गया। जिस पर 19 करोड़ 90 लाख रुपये की लागत आई है। पंचकूला, पिजौर, बरवाला, रायपुररानी में 63 स्थानों पर कैमरे लगाए गए हैं। इस समय शहर में 453 कैमरे, 2 ड्रोन कैमरा है। जिसमें 373 बॉक्स कैमरा, 57 पैन टिल्ट जूम कैमरा, 23 ऑटोमेटिक कैमरा लगाए गए हैं। 55 इंच की वीडियो वॉल कंट्रोल रूम में लगाई गई है, जिसमें सभी कैमरों से शहर में नजर रहती है। 275 फुल एचडी कैमरा किए गए इंस्टॉल

नगर निगम प्रशासक राजेश जोगपाल के अनुसार 30 दिनों तक रिकॉर्डिंग कंट्रोल रूम में रहती र्ह। हाइब्रिड नेटवर्क 68 किलोमीटर टाइपोग्राफी ऑप्टिकल फाइबर केबल डाली गई है। स्मार्ट सिटी में अपराध को रोकने के लिए यह बहुत जरूरी कदम थे। पहले फेज के तहत 2015 में नगर निगम पंचकूला द्वारा 46 आउटडोर दिन और रात में अच्छा व्यू देने वाले कैमरे लगाए गए। इसके बाद 2018 में 275 फुल एचडी डे नाइट और 33 पीटीजेड कैमरा लगाए गए गए। तीसरे फेस में नगर निगम द्वारा शहर की मार्केटों को कवर किया गया है, जिसमें सेक्टर 7, 9, 10, 11, 14, 15 मार्केट में कैमरे इंस्टॉल किए गए हैं। कैमरों की मदद से पकड़े गए क्रिमीनल

इन कैमरा का उद्देश्य शहर में चोरी, छीना झपटी, लूट जैसी घटनाओं पर काबू करना है। साथ ही ड्राइवर जोकि यातायात नियमों का उल्लंघन करते है, उनके ऑनलाइन चालान, वाहन चोरों का पता लगाने, दो वर्ष पूर्व 2017 में डेरा सच्चा सौदा के दौरान हुई हिसा में हरियाणा पुलिस द्वारा ज्यादातर अपराधिक तत्वों की नजर से पकड़े गए थे। नगर निगम का अब फेसरीडिग कैमरा सिस्टम के तहत लगाएगा, ताकि जो हिस्ट्रीशीटर नियमित क्रिमनल शहर में घूम रहे हों, उनके चेहरे कैमरा में कैद हो और सीधा कंट्रोल रूम में उनकी फोटो पहुंच जाए।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस