Move to Jagran APP

Nuh News: नूंह में साइबर ठगों पर पुलिस का प्रहार, दो दिनों में 42 आरोपी पकड़े

एक बार फिर मेवात क्षेत्र में नूंह पुलिस ने साइबर ठगों के विरुद्ध कड़ा प्रहार किया है। प्रतिबिंब ऐप की मदद लेकर साइबर ठगों के स्थानों पर छापेमारी कर दो दिनों में 42 आरोपितों को पकड़ा गया। ठगों से 102 मोबाइल फोन सिम कार्ड एटीएम कार्ड तथा नकदी बरामद हुई है। पुलिस महानिदेशक शत्रुजीत कपूर और पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारणिया के निर्देश पर यह विशेष अभियान चलाया गया।

By Jagran News Edited By: Geetarjun Sun, 31 Mar 2024 08:43 PM (IST)
नूंह में साइबर ठगों पर पुलिस का प्रहार, दो दिनों में 42 आरोपी पकड़े

जागरण संवाददाता, नूंह। एक बार फिर मेवात क्षेत्र में नूंह पुलिस ने साइबर ठगों के विरुद्ध कड़ा प्रहार किया है। प्रतिबिंब ऐप की मदद लेकर साइबर ठगों के स्थानों पर छापेमारी कर दो दिनों में 42 आरोपितों को पकड़ा गया। ठगों से 102 मोबाइल फोन, सिम कार्ड, एटीएम कार्ड तथा नकदी बरामद हुई है। 

पुलिस महानिदेशक शत्रुजीत कपूर और पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारणिया के निर्देश पर मेवात क्षेत्र में शनिवार और रविवार को विशेष अभियान चलाया। पकड़े गए आरोपितों से पुलिस पूछताछ में पता चला है कि सभी साइबर ठग फर्जी प्रमाण-पत्रों के आधार पर फर्जी इंटरनेट मीडिया प्रोफाइल, फर्जी बैंक खाता समेत अन्य तरीके अपनाकर लोगों के साथ आनलाइन ठगी कर रहे थे।

सभी के विरुद्ध साइबर थाना नूंह में केस दर्ज कर पूछताछ की जा रही है। पुलिस प्रवक्ता कृष्ण कुमार ने बताया कि देश के अलग-अलग कोनों में साइबर अपराध को अंजाम देने वाले ठगों की पहचान प्रतिबिंब ऐप के माध्यम से हुई। क्राइम ब्रांच और साइबर पुलिस की अलग-अलग टीमों को गठित कर साइबर अपराधियों के ठिकानों पर दबिश देकर सभी को पकड़ा गया। कुछ बड़े साइबर ठगों की पहचान बताई गई है।

इनमें नूंह के बैंसी निवासी दीन मोहम्मद, तावड़ू के पचगांव निवासी आसिफ, नगीना के असाइसीका निवासी आरिफ, रोजका मेव के बसई निवासी सरफराज, फिरोजपुर झिरका के धनौली खुर्द निवासी साकिब, पिनगांव के जेहठाना निवासी इजारन, राजस्थान के अपूकड़ा निवासी मुनाजिर शामिल हैं।

ऐप की मदद से ट्रेस हुई लोकेशन

प्रतिबिंब ऐप के माध्यम से साइबर अपराधियों की पहचान हुई तो उनकी लोकेशन ट्रेस कर अलग-अलग टीमें बनाकर एक ही समय पर दबिश दी गई। पूछताछ में पता चला कि साइबर ठग पार्ट टाइम आनलाइन जाब, सस्ती गाड़ी का झांसा देकर, फेसबुक पर फर्जी फोटो लगा सेक्सटॉर्शन के जाल में फंसाकर लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे।

साइबर थाना प्रभारी विमल कुमार ने बताया कि पुलिस की अलग-अलग टीमें इस मिशन में लगी हुई हैं। दूसरे राज्यों की पुलिस को भी पकड़े गए साइबर अपराधियों के बारे में जानकारी दी गई है। इससे पहले पिछले साल अप्रैल में मेवात क्षेत्र में छापेमारी कर 150 से ज्यादा साइबर ठगों को पकड़ा गया था। यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई थी।

क्या है प्रतिबिंब ऐप

प्रतिबिंब ऐप के माध्यम से साइबर अपराध से संबंधित देशभर की शिकायतें अपलोड हो जाती हैं। साथ ही जिन-जिन नंबर से पीड़ितों के साथ ठगी की गई है वह नंबर भी इस ऐप पर अपलोड हो जाते हैं। उन्हें ट्रेस कर अपराधियों को आसानी से काबू किया जा सकता है।

साइबर अपराधियों को पकड़ने में प्रतिबिंब ऐप कारगर हथियार है। इस ऐप के माध्यम से जानकारी मिलने के बाद ही जिले में साइबर ठगों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया गया। इसमें अपराधियों की लोकेशन आसानी से पता चल जाती है। -नरेंद्र बिजारणिया, पुलिस अधीक्षक, नूंह