जागरण संवाददाता, नूंह : सलंबा गांव में बृहस्पतिवार को होलिका पूजन के दौरान महिलाओं के साथ मारपीट व पूजन सामग्री हटाने का मामला सामने आया है। गांव के कुछ लोगों ने इस ओर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाते हुए होलिका पूजन करने पर रोक लगा दी। जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। जानकारी के अनुसार सलंबा गांव की दलित महिलाएं निर्मला, संतोष, गुड्डी, भगवती, राजबाला, जगवती, सरस्वती, ज्ञानवती आदि का आरोप है कि दोपहर को होलिका पूजन के दौरान गांव की हलीमा पत्नी यूनुस, मैमूना पत्नी साकिर द्वारा पूजन स्थल पर पानी डाला गया और पूजन सामग्री फेंक दी गई। इसका विरोध करने पर मारपीट, गाली-गलौज व जातिसूचक शब्द बोले गए। मामले की जानकारी पुलिस को देने के लिए ऑटो में बैठी तो गांव के लोगों ने ऑटो में नहीं बैठने दिया। इस दौरान पैदल चलकर नूंह थाने पहुंची और आपबीती पुलिस को बताई। मामले की जानकारी डीएसपी व एसएचओ को मिलने पर पुलिस बल गांव में भेजा और स्थिति का जायजा लिया। पूजन सामग्री फेंकने वाली महिलाओं व उनके परिजनों का कहना है कि ये जमीन उनकी है। जबकि पीड़ित महिलाओं ने कहा कि जमीन दलितों की है। तीन साल से हर बार इसी स्थान पर होलिका पूजन किया जा रहा है। हर साल होलिका पूजन पर इसी तरह रोक व गलत व्यवहार किया जाता है। इस पर जब आवाज उठाई जाती है तो उसे दबा दिया जाता है। वहीं गांव के अन्य लोगों ने कहा कि जमीन पंचायत की है। मौके पर मौजूद एएसआइ सकुंतराज ने पाया की जमीन पंचायत की है। मामले को देखते हुए पुलिस दोनों पक्ष के लोगों को नूंह थाने में ले आई।

----------

महिलाएं शिकायत लेकर थाने आई थी। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। दोनों पक्ष के लोगों को बुलाया गया है।

संजय कुमार, एसएचओ नूंह।

----------

मामले की जांच के लिए पुलिस को कहा गया है। पूरा मामला संज्ञान में है।

अशोक शर्मा, उपायुक्त नूंह।

By Jagran