Move to Jagran APP

Mahendragarh Bus Accident: बस ड्राइवर सहित तीन आरोपियों को पुलिस ने 5 दिन की रिमांड पर लिया

स्कूल बस के पलटने की दिल दहला देने वाली घटना गुरुवार को सुबह करीब आठ बजे कनीना के गांव उन्हाणी के पास यूरो स्कूल के निकट मोड़ पर हुई थी। चालक धर्मेंद्र ने शराब पी रखी थी। वह करीब सत्तर किलोमीटर की गति से बस दौड़ा रहा था। मोड़ के पास बस अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराकर पलट गई थी।

By Jagran News Edited By: Sonu Suman Fri, 12 Apr 2024 05:05 PM (IST)
महेंद्रगढ़ स्कूल बस हादसे का आरोपी ड्राइवर सहित तीन को पुलिस ने 5 दिन की रिमांड पर लिया।

संवाद सहयोगी, महेंद्रगढ़। जिले के कनीना में गुरुवार को हुए भयावह सड़क हादसे के लिए जिम्मेदार जीएल पब्लिक स्कूल के बस चालक धर्मेंद्र, स्कूल प्रिंसिपल दीप्ति तथा स्कूल प्रबंधन कमेटी के सचिव होशियार सिंह को कनीना थाना पुलिस ने शुक्रवार को अदालत में पेश कर पांच दिन कर रिमांड पर लिया है। तीनों को गुरुवार शाम गिरफ्तार किया गया था। 

आरोपित प्रिंसिपल तथा सचिव की ओर से चालक को जिम्मेदार बता अदालत से रिमांड नहीं देने की गुजारिश की गई। अदालत ने यह कहते हुए मना कर दिया कि सब कुछ जानते हुए भी चालक से बस चलवाते रहे ऐसे में जांच प्रकिया से गुजरना जरूरी है। पुलिस ने तीनों के विरुद्ध गैर इरादन हत्या, साजिश रचने तथा मोटर व्हीकल एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। दोष साबित होने पर दस साल से आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है।

अनियंत्रित बस पेड़ से टकराकर पलट गई

दिलदहला देने वाली घटना गुरुवार को सुबह करीब आठ बजे कनीना के गांव उन्हाणी के पास यूरो स्कूल के निकट मोड़ पर हुई थी। चालक धर्मेंद्र ने शराब पी रखी थी। वह करीब सत्तर किलोमीटर की गति से बस दौड़ा रहा था। मोड़ के पास बस अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराकर पलट गई थी। हादसे में बस में सवार छह बच्चों की मौत हो गई थी, जबकि 37 बच्चे घायल हुए थे। जिनमें से अभी बारह बच्चे गुरुग्राम तथा रेवाड़ी के अस्पताल में भर्ती है। 

बच्चों ने बस धीमी गति से चलाने को कहा था

इस मामले में कनीना थाने में स्कूल में 12वीं की छात्रा अनुज शर्मा की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई है। छात्रा ने पुलिस में दिए गए बयान में कहा है कि वह और अन्य बच्चे स्कूल की बस में सुबह सवार होकर जा रहे थे। बस सेहलंग गांव का रहने वाला धर्मेंद्र चला रहा था। उसने शराब पी रखी थी। जब वह तेज गति से बस चला रहा था तो उसने तथा गई बच्चों ने टोका था कि अंकल आज शराब पिये हो और बस तेज मत चलाओ। बच्चों की बात नहीं मानी और हादसा हुआ। 

अभिभावकों ने ड्राइवर से बस की चाबी छीन ली

छात्रा के बयान के अलावा एफआईआर में  यह भी लिखा गया कि खेड़ी तलवाना में जब कुछ बच्चों के अभिभावकों को पता चला कि स्कूल बस का चालक शराब पीकर गाड़ी चला रहा था तो धर्मेंद्र से चाबी छीन ली थी। स्कूल प्रशासन से बात की तो स्कूल प्रशासन ने अभिभावक को स्कूल बस की चाबी वापस देने की बात कही। नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी गई, जिस पर स्कूल प्रशासन की धमकी से डरकर अभिभावकों ने चाबी वापस दे दी।

शराब के आदी ड्राइवर से चलवाया जा रहा था बस 

उधर उनके बयान के बाद कनीना पुलिस ने ऑनलाइन बस की जानकारी प्राप्त की। इसमें बस का फिटनेस, पॉल्यूशन आदि नहीं मिला। 10 साल पुरानी बस को चलवाने के लिए मोटर व्हीकल एक्ट के किसी नियम का पालन नहीं किया जा रहा था। चालक शराब पीने का आदी था। इसके बाद भी स्कूल प्रबंधन उससे बस चलवा रहा था।

दूसरी तरफ गांव झाड़ली और धनौंदा में मातम छाया हुआ है। विभिन्न अधिकारी मौके पर पहुंच रहे हैं। विभिन्न नेता गांव में जा रहे हैं तथा अभी तक पूरा गांव सदमे में है। गांवों में मातम पसरा हुआ है।

कमेटी करेगी जांच

उपायुक्त मोनिका गुप्ता  ने अतिरिक्त उपायुक्त की अध्यक्षता में उपमंडल मजिस्ट्रेट कनीना, उप पुलिस अधीक्षक कनीना व जिला शिक्षा अधिकारी की सदस्यता वाली समिति गठित की है। यह समिति दुर्घटना में हुई छह छात्रों की मृत्यु और घायल हुए छात्रों के घटना के कारणों और परिस्थितियों का पता लगाने के लिए जांच करेगी। जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को भेजी जाएगी।

ये भी पढ़ें- तो बच जाती मासूमों की जान... महेंद्रगढ़ हादसे से पहले ग्रामीणों ने रुकवा ली थी बस, प्रिंसिपल की एक गलती ने छीन लिए कई घरों के चिराग