संवाद सहयोगी, इंद्री : सिरमौर (हिमाचल प्रदेश) के गायत्री आश्रम श्री रेणुकाजी से महामंडलेश्वर स्वामी दयानंद भारती भगवद्गीता ज्ञान के प्रचार-प्रसार के लिए पहुंचे। उन्होंने मेहता फार्म पर आयोजित कार्यक्रम में भगवद्गीता मुफ्त वितरित की और गीता ज्ञान का वर्णन किया। कार्यक्रम में पूर्व मंत्री भीमेसन मेहता ने शिरकत की। मंच संचालन पंडित बालकिशन शर्मा ने किया। इसके बाद वह अंबाला व कुरुक्षेत्र में प्रचार प्रसार के लिए रवाना हो गए। महामंडलेश्वर स्वामी दयानंद भारती ने कहा कि हमारी संस्था ने देश को जागृत करने का संकल्प लिया है। आज सनातन धर्म बिखर चुका है। ऐसे में गीता ज्ञान बांट रहे हैं। संकल्प लिया है कि पूरे भारत के 20 करोड़ घरों में गीता पहुंचाएंगे। हिमाचल में कई जगह गीता वितरित की और अब हरियाणा आए हैं। भारत में आज हम बिखराव की स्थिति में है। ऐसे में युवा वर्ग को जागृत करेंगे और घर घर जाकर गीता ज्ञान का प्रचार प्रसार करें। हर गांव में गीता ज्ञान गुरुकुल विद्यालय खुलवाने के लिए लोगों से प्रार्थना करेंगे। उन्होंने कहा कि सब समुदाय अपने धर्म को मना रहे हैं लेकिन सनातन धर्म बिखरता जा रहा है। गीता ने कभी किसी धर्म का अपमान नहीं किया। आज ज्यादातर घरों में गीता नहीं मिलती है। जापान, जर्मन, अमेरिका आदि मान रहे हैं और अनेक अंग्रेज भारत में संतों के शिष्य बन रहे हैं। हमने ईंट-पत्थर व माया का विस्तार किया लेकिन जिस कारण हमें पदवी मिलती है, उससे प्रेरित राष्ट्र का निर्माण नहीं किया। हम समाज का पैसा अपने लिए खर्च नहीं करेंगे बल्कि समाज के कल्याण में लगाएंगे। समाज को जागृत करेंगे और प्रचार प्रसार करेंगे। उन्होंने कहा कि गीता पढ़ने से जीवन में परिवर्तन आएगा। गीता ग्राम गुरुकुल विद्यालय हर गांव व आश्रम में भारत के अंदर खुलवाना चाहते हैं। हमने रेणुका (हिमाचल) आश्रम में गीता ग्राम गुरुकुल विद्यालय की स्थापना की अनुमति दे दी है। रेणुका आश्रम में आयुवेर्दिक विद्यालय भी खुलवाया। इन विद्यालयों में युवा आईपीएस व आइएएस आदि बनाएंगे। पूर्व मंत्री भीमसेन मेहता ने कहा कि गीता ज्ञान देने के लिए ये प्रयास सराहनीय हैं। बलराम शिष्य, बालकिशन शर्मा, जयनारायण, किशनलाल, हुकम सिंह दलाल, सुदेश, काका वोहरा, गुरइकबाल, मनजीत गोल्डी, रिषिपाल शर्मा आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran