जेएनएन, करनाल। उत्तर प्रदेश सीमा से सटे गांव मंगलौरा स्थित मंदिर में अज्ञात लोगों ने पांच पुजारियों की जीभ काट दी और उन्हें रस्सी से बांधकर मंदिर बंद कर दिया। सुबह जब तक लोगों को पता चलता तब तक दो पुजारियों की मौत हो चुकी थी। तीन घायल पुजारियों की हालत भी नाजुक बनी हुई है। जीभ किसने और क्यों काटी इसकी जांच की जा रही है।

मंगलौरा चौकी से महज 500 मीटर दूर स्थित भाई-बहन का यह मंदिर संस्था चलाती है। यमुना नदी और शनिदेव को भाई-बहन माना जाता है। यहां उन्हीं की पूजा होती है और लोगों की बड़ी श्रद्धा है। पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह भौरिया ने मौके का दौरा किया। मंदिर में शराब की बोतलें और कंडोम मिले हैं।

घायल पुजारी को अस्पताल पहुंचाते लोग।

पुलिस ने मंदिर को सील कर दिया गया है। बताते हैं कि गांव का एक परिवार सुबह मंदिर से सटे खेत में काम करने गया था। परिवार की महिलाएं और बुजुर्ग मंदिर में मत्था टेकने पहुंचे तो बाहर से ताला लगा था। अंदर झांकने पर लोगों की कराहने की आवाज आई। उन लोगों ने आसपास के ग्रामीणों को बताया तो पुलिस को खबर मिली।

मंदिर के अंदर का दृश्य दहलाने वाला था। पांचों पुजारी रस्सी से बंधे हुए थे। इनमें दो की मौत हो चुकी हो थी। तीन अन्य के मुंह से खून निकल रहा था। ग्रामीणों का अनुमान है कि हत्यारों ने इनकी जीभ काट ली। मंदिर का दानपात्र टूटा हुआ था। पास में शराब की बोतलें और इस्तेमाल किया गया कंडोम भी था। रविंद्र शर्मा, अजय शर्मा और हरजिंदर बुरी तरह घायल थे।

अजय इंद्री के संगोही का रहने वाला है, जबकि सरदार हरजिंदर यहां स्थायी रूप से रहते हैं और संस्था उन्हें वेतन देती है। विनोद (32) और सुल्तान (60) दम तोड़ चुके थे। विनोद कैथल के बदनारा गांव का रहने वाला है। सुल्तान रात के समय मंदिर में रहता। दिन में आसपास खेतों में काम करता था। वह उत्तर प्रदेश का रहने वाला था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Edited By: Kamlesh Bhatt