जागरण संवाददाता, करनाल

बिजली निगम की जुर्माना माफी योजना-2019 की अवधि को 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया गया है। योजना के प्रति उपभोक्ताओं के उत्साह को देखते हुए सरकार की ओर से इसको आगे बढ़ाने का फैसला लिया। बिजली निगम के मुताबिक जिले में 69 हजार 811 हैं ट्यूबवेल कनेक्शन हैं। इस योजना के दायरे में 33 हजार 138 उपभोक्ता आ रहे हैं। इतने उपभोक्ता ट्यूबवेल का बिल जमा नहीं कराने के कारण डिफाल्टर हुए हो चुके थे। अब तक इस योजना का लाभ 12 हजार 413 उपभोक्ताओं उठा चुके हैं। सभी उपभोक्ता इसका लाभ लें इसके लिए निगम अधिकारियों ने भी लोगों को समझाने का प्रयास किया है। इसके परिणाम भी सामने आने लगे हैं। अब तक 6.74 करोड़ रुपये निगम के खजाने में जमा हो चुके हैं।

क्या है जुर्माना माफी 2019 योजना?

जो किसान किसी कारण से ट्यूबवेल का बिल जमा नहीं करा पाए थे, ओर जुर्माने के साथ राशि अधिक हो गई थी उनके लिए प्रदेश सरकार ने जुर्माना माफी योजना-2019 शुरू की है। जिसके तहत किसान 31 मार्च, 2019 तक के ट्यूबवेल कनेक्शनों के बकाया बिलों पर जुर्माना राशि को छोड़कर केवल मूल राशि जमा करवा सकते हैं। यह योजना 31 दिसंबर तक लागू रहेगी। इस योजना के तहत वैसे तो प्रदेशभर के करीब दो लाख उपभोक्ता लाभान्वित होंगे, करनाल जिले में 33138 उपभोक्ता इस जुर्माना माफी योजना का लाभ ले सकते हैं। किसानों का ट्यूबवेल बिजली कनेक्शन दो साल में कटा है, वह बिना जुर्माने के सिर्फ बकाया मूल राशि जमा करवाने व निगम के अनुसार री-कनेक्शन की फीस जमा करवाने पर उनका कनेक्शन चालू कर दिया जाएगा।

योजना के तहत किस डिविजन की क्या है उपभोक्ताओं की स्थिति

डिविजन का नाम डिफाल्टरों की संख्या कितनों ने लाभ लिया कितनी राशि जमा हुई

सिटी डिविजन 8838 1696 17.95 लाख

सब डिविजन अर्बन-1 5482 1416 42.85

सब डिविजन अर्बन-2 12581 6604 252.88

असंध 6237 2697 360.31

कुल 33138 12413 673.99 नोट : यह आंकड़े बिजली निगम की ओर से जारी किए गए हैं।

लगाए जा रहे हैं खुले दरबार, फायदा उठाएं उपभोक्ता

जुर्माना माफी योजना-2019 की अवधि बढ़ाकर 31 दिसंबर तक कर दी गई है। जो उपभोक्ता किसी कारण वंश इस योजना का लाभ नहीं ले सके उनके लिए यह सुनहरा मौका है। लोगों को योजना के बारे में गांव-गांव जाकर खुले दरबार लगाकर जानकारी दी जा रही है। कोई भी उपभोक्ता योजना से जुड़ी जानकारी बिजली निगम कार्यालय में आकर ले सकता है। उपभोक्ताओं से अपील है कि ट्यूबवेल के बिलों पर जो जुर्माना लगा हुआ था उसको योजना के तहत माफ कराएं।

धर्म सुहाग, कार्यकारी अभियंता, बिजली निगम करनाल।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस